UP : ट्रकों से करते थे उगाही, फर्जी पुलिसवाले फंसे असली पुलिस के चंगुल में

[ad_1]

UP : ट्रकों से करते थे उगाही, फर्जी पुलिसवाले फंसे असली पुलिस के चंगुल में

बेरोजगार हुए तो बन गए फर्जी पुलिसवाले, करने लगे अवैध वसूली. चार गिरफ्तार.

मुखबिर से सूचना मिली कि बीर बहुरिया के पास महुंजी रास्ते पर कुछ लोग फर्जी पुलिसवाले बनकर ट्रकों से अवैध वसूली कर रहे हैं. सूचना पर थाना प्रभारी सदल-बल मौके पर पहुंचे और चार लोगों पकड़ लिया.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    August 21, 2020, 10:49 PM IST

चंदौली. वैश्विक महामारी कोरोना (corona) का सीधा असर लोगों के स्वास्थ्य और रोजगार पर पड़ा है. लॉकडाउन (Lockdown) के चलते जहां देश की अर्थव्यवस्था (Economy) बैठ गई है, वहीं बड़ी तादाद में लोगों की नौकरी चली गई, व्यवसाय ठप हो गए. नतीजा है कि बढ़ती बेरोजगारी (Unemployment) ने लोगों को अपराधी (Criminal) बना दिया. चंदौली पुलिस (Chandauli Police) ने एक ऐसे गैंग का खुलासा किया है जो फर्जी पुलिसवाले बनकर ट्रकों से वसूली करते थे. गिरफ्तारी के बाद उन्होंने कहा कि कोरोना काल की वजह से आई बेरोजगारी के कारण वे ऐसा कर रहे थे.

चार गिरफ्तार

दरअसल पुलिस को पिछले कई दिनों से सड़कों पर अवैध वसूली करने की सूचना मिल रही थी. इसी क्रम में पुलिस ने 20 अगस्त की रात लगातार इसपर निगाह रख रही थी. तभी मुखबिर से सूचना मिली कि बीर बहुरिया के पास महुंजी रास्ते पर कुछ लोग फर्जी पुलिसवाले बनकर ट्रकों से अवैध वसूली कर रहे हैं. सूचना पर थाना प्रभारी सदल-बल मौके पर पहुंचे और कॉम्बिंग कर चार लोगों पकड़ लिया.

वसूले गए 68 रुपये जब्तपुलिस ने इनके पास से चार पहिया वाहन, एक बिना नंबर प्लेट लगी दो पहिया वाहन, 4 मोबाइल फोन के साथ ही 68190 रुपया नगदी बरामद किया है. पुलिस पूछताछ में जो बातें निकलकर सामने आईं वह संक्रमण काल की कहानी पेश कर रही है. आरोपियों ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते वे लोग बेरोजगार हो गए. खाने-पीने की भी समस्या खड़ी हो गई थी. जिस कारण ये लोग मिलकर फर्जी पुलिसवाले बने और सड़कों पर ट्रक चालकों को डरा धमकाकर वसूली करने लगे. गिरफ्तारी के दौरान भी उनके पास से वसूली के 68 हजार रुपये बरामद हुए. एडिशनल एसपी प्रेमचंद ने बताया कि धीना पुलिस ने फर्जी पुलिस बनकर अवैध वसूली करने वाले गिरोह का खुलासा किया, जो सड़कों पर बालू गिट्टी लदे ट्रकों से अवैध वसूली करता था. इन सभी के खिलाफ आईपीसी एक्ट 419, 420, 384, 504, 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *