Swachh Survekshan 2020: देश की 62 छावनियों में मेरठ कैंट को मिला तीसरा स्थान

[ad_1]

Swachh Survekshan 2020: देश की 62 छावनियों में मेरठ कैंट को मिला तीसरा स्थान

कैंट बोर्ड के सीईओ प्रसाद चव्हाण ने इस उपलब्धि के लिए छावनी की जनता को बधाई दी है.

खास बात ये है कि स्वच्छ सर्वेक्षण (Swachh Suvekshan) में महज दो साल पहले मेरठ कैंट 45वे स्थान पर था. इसके बाद मेरठ लगातार दो सालों से टॉप थ्री में जगह बना रहा है.

मेरठ. उत्तर प्रदेश में मेरठ कैंट (Meerut Cantt) ने एक बार फिर साफ-सफाई में अपना लोहा मनवाया है. स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 में मेरठ कैंट ने एक बार फिर साफ सफाई को लेकर बड़ी उपलब्धि हासिल की है. स्वच्छ सर्वेक्षण लीग के परिणामों में मेरठ कैंट ने देश की 62 छावनियों में तीसरा स्थान हासिल किया है. पहले नम्बर पर जालंधर कैंट (Jalandhar Cantt), दूसरे नम्बर पर दिल्ली कैंट (Delhi Cantt) और तीसरे नम्बर पर मेऱठ कैंट का नाम आया है.

दो साल में लंबी छलांग

स्वच्छ सर्वेक्षण में मेरठ कैंट को मिले तीसरे स्थान से कैंट बोर्ड के सीईओ का कहना है कि इस उपलब्धि से सभी ख़ुश हैं लेकिन अगले साल और बेहतर प्रदर्शन करके उनका लक्ष्य पहला स्थान हासिल करने को लेकर रहेगा. हालांकि पिछले वर्ष 2019 में मेरठ कैंट को देश की सभी छावनियों में दूसरा स्थान हासिल हुआ था, जबकि 2018 में मेऱठ छावनी को देश की सभी छावनियों में 45वां स्थान हासिल हुआ था.

ये है सफलता की वजहइस बार मेऱठ कैंट ने स्वच्छ सर्वेक्षण के स्टैडर्ड्स को पूरा करने का प्रयास किया है. कैंट बोर्ड के सीईओ प्रसाद चव्हाण ने बताया कि कूड़े से खाद बनाने की प्रक्रिया, डोर टू डोर कूड़ा उठाना और प्लास्टिक से छावनी को मुक्त करने में सफलता हासिल हुई है. खुले में शौच से मुक्ति आदि बिन्दुओं पर भी कैंट क्षेत्र ने सराहनीय कार्य किया है. मेरठ कैंट क्षेत्र की कामयाबी का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि टॉप कैंट जालंधर से मेरठ मात्र 140 अंक पीछे रहा जबकि दूसरे नम्बर की छावनी दिल्ली से मात्र 118 अंक ही पीछे रहा.

छावनी की जनता को दी बधाई

कैंट बोर्ड के सीईओ का कहना है कि लगातार दूसरी बार टॉप थ्री में स्थान हासिल करना खुशी की बात है. उऩ्होंने कहा कि स्वच्छ छावनी में रहने वाली जनता को इसमें अपना और सहयोग देने को तैयार रहना चाहिए. उन्होंने इस उपलब्धि के लिए छावनी की जनता को बधाई दी है.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *