Ram Mandir Bhumi Pujan: PM मोदी ने कहा- इंडोनेशिया जैसे सर्वाधिक मुस्लिम जनसंख्या वाले देश में भी राम पूजनीय हैं

[ad_1]

अयोध्या. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बुधवार को कहा कि विश्व की सर्वाधिक मुस्लिम जनसंख्या (Highest Muslim Population Country) वाले इंडोनेशिया (Indonesia) सहित दुनिया में कई ऐसे देश हैं जो भगवान राम (Lord Shri Rama) के नाम का वंदन करते हैं. राम मंदिर (Ram Mandir) को भारतीय संस्कृति की ‘‘समृद्ध विरासत’’ का द्योतक बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह अनंतकाल तक पूरी मानवता को प्रेरणा देगा. ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’(Shri Ram Janmabhumi Mandir) का शिलान्यास करने के बाद प्रधानमंत्री ने एक समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि रामायण इंडोनेशिया, कंबोडिया (Combodia), लाओस (Laos), मलेशिया (Malaysia), थाईलैंड (Thailand), श्रीलंका (Sri Lanka) और नेपाल (Nepal) में प्रसिद्ध और पूजनीय है.

पीएम मोदी ने कहा कि भगवान राम का जिक्र ईरान (Iran) और चीन (China) तक में पाया गया है और ‘‘राम कथा’’ (Ram Katha) कई देशों में प्रचलित है. उन्होंने कहा, ‘‘दुनिया में कितने ही देश राम के नाम का वंदन करते हैं. वहां के नागरिक खुद को श्रीराम से जुड़ा हुआ मानते हैं. विश्व की सर्वाधिक मुस्लिम जनसंख्या जिस देश में है, वो है इंडोनेशिया. वहां हमारे देश की ही तरह ‘काकाविन’ रामायण, स्वर्णद्वीप रामायण, योगेश्वर रामायण जैसी कई अनूठी रामायण हैं. राम आज भी वहां पूजनीय हैं.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि इसी प्रकार कंबोडिया में ‘रमकेर रामायण’, लाओ में ‘फ्रा लाक फ्रा लाम’ रामायण, मलेशिया में ‘हिकायत सेरी राम’ तो थाईलैंड में ‘रामाकेन’ रामायण है. उन्होंने कहा, ‘‘आपको ईरान और चीन में भी राम के प्रसंग तथा राम कथाओं का विवरण मिलेगा.’’

ये भी पढ़ें- अयोध्या में भूमि पूजन के मौके पर देवेंद्र फडणवीस ने गाया भजन, देखें VIDEO

जानकी हरण के नाम से श्रीलंका में सुनाई जाती है रामकथामोदी ने कहा कि श्रीलंका में रामायण की कथा ‘‘जानकी हरण’’ के नाम से सुनाई जाती है और नेपाल का तो राम से आत्मीय संबंध माता जानकी से जुड़ा है. उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे ही दुनिया के और न जाने कितने देश हैं, कितने छोर हैं, जहां की आस्था में या अतीत में, राम किसी न किसी रूप में रचे बसे हैं. आज भी भारत के बाहर दर्जनों ऐसे देश हैं जहां, वहां की भाषा में रामकथा, आज भी प्रचलित है.’’

मोदी ने उम्मीद जताई कि आज इन देशों में भी करोड़ों लोगों को राम मंदिर के निर्माण का काम शुरू होने से बहुत सुखद अनुभूति हो रही होगी. उन्होंने कहा, ‘‘आखिर राम सबके हैं, सब में हैं.’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि श्रीराम के नाम की तरह ही अयोध्या में बनने वाला भव्य राम मंदिर भारतीय संस्कृति की समृद्ध विरासत का द्योतक होगा. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि यहां निर्मित होने वाला राम मंदिर अनंतकाल तक पूरी मानवता को प्रेरणा देगा.’’

देश में हो रहा राम सर्किट का निर्माण
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित करना होगा कि भगवान श्रीराम का संदेश, राम मंदिर का संदेश, हमारी हजारों सालों की परंपरा का संदेश, कैसे पूरे विश्व तक निरंतर पहुंचे. उन्होंने कहा, ‘‘कैसे हमारे ज्ञान, हमारी जीवन-दृष्टि से विश्व परिचित हो, ये हमारी, हमारी वर्तमान और भावी पीढ़ियों की ज़िम्मेदारी है. इसी को समझते हुए, आज देश में भगवान राम के चरण जहां-जहां पड़े, वहां राम सर्किट का निर्माण किया जा रहा है.’’



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *