Latest sachin pilot News: पायलट ने कहा- पार्टी से कोई मांग नहीं रखी, मैं काम करता रहूंगा

[ad_1]

राजस्थान की गहलोत सरकार (ashok gehlot government) में उपमुख्यमंत्री रहे सचिन पायलट (sachin pilot) अपने समर्थित विधायकों के साथ मंगलवार शाम दिल्ली से जयपुर पहुंचे। पायलट के समर्थकों ने उनके आवास पर पहुंचने पर गर्मजाेशी के साथ नारेबाजी करते हुए उनका स्वागत किया।

Edited By Sambrat Chaturvedi | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

जयपुर लौटे पायलट ने कहा-मैं इस मिट्टी के लिए समर्पित हूं, काम करता रहूंगाजयपुर लौटे पायलट ने कहा-मैं इस मिट्टी के लिए समर्पित हूं, काम करता रहूंगा
हाइलाइट्स

  • राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट मंगलवार शाम को दिल्ली से जयपुर लौटे।
  • जयपुर में उनके आवास पर समर्थकों ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया।
  • ‘हमारा नेता कैसा हो सचिन पायलट जैसा हो’ नारे जमकर लगाए गए।
  • समर्थकों के बीच पायलट ने फिर वही बात दोहराई कि उनकी किसी से ये व्यक्तिगत लड़ाई नहीं बल्कि सिद्धांतों के लिए संघर्ष था।

जयपुर

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट मंगलवार को एक महीने बाद दिल्ली से जयपुर लौट आए। पायलट के उनके आवास पर पहुंचने पर उनके समर्थित विधायकों और समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की। इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री के पद को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि, ‘मैंने पार्टी से कोई मांग नहीं रखी है। मैं एक कार्यकर्ता, एक विधायक बनकर काम करता रहूंगा। मैं इस मिट्टी के लिए समर्पित हूं। और राजस्थान के लोगों का मुझपर एहसान है। मैं काम करता रहूंगा।’

सीएम गहलोत को उनकी जिम्मेदारी का अहसास

राजस्थान की जनता के लिए हमारा कमिटमेंट सौ प्रतिशत है। मेरा किसी से कोई व्यक्तिगत द्वेष नहीं है। राजनीति में मतभेद कार्यशैली और वैचारिक हो सकता है। सीएम गहलोत को लेकर पायलट ने कहा कि मुझे लगता है सीएम अशोक गहलोत को राज्य कांग्रेस के ‘मुखिया’ के रूप में अपनी जिम्मेदारी का अहसास है।

BSP विधायक विलय स्टे एप्लीकेशन में राजस्थान HC से भी नहीं मिली राहत, सुनवाई अब 13 अगस्त को




‘अगर मैंने कोई गलती की है, तो मैं इसे सुधारने के लिए तैयार हूं’


सचिन पायलट ने कहा कि मैं हमेशा पार्टी के साथ खड़ा हूं, खड़ा रहूंगा, लेकिन जिन लोगों के साथ मैंने पांच साल संघर्ष किया। उनके साथ कोई अन्याय हो, यह मैं सहन नहीं कर सकता था। मेरा इतना ही कहना था कि हमारे विधायकों के सम्मान की रक्षा हो। बस इसी बात को लेकर मैंने अपनी बात आलाकमान तक पहुंचाई। मैंने पार्टी में कोई पद नहीं मांगा। मेरे मन में पद की कोई लालसा नहीं है, लेकिन मेरी जिम्मेदारी है कि अगर हमारे साथ संघर्ष करने वालों के साथ यदि अन्याय हो, तो उस बात को उठाया जाए। पायलट ने आगे कहा कि यदि मैंने कोई गलती की है, तो मैं इसे सुधारने के लिए तैयार हूं।



गहलोत Vsपायलट प्रकरण में प्रियंका गांधी बनीं Crisis Manager, कांग्रेस में बढ़ा कद?


‘हमारी निष्ठा से सवाल करने वालों को हकीकत का सामना करना पड़ेगा’

जयपुर में अपने घर पहुंचने के बाद सचिन पायलट से मीडिया से साथ बातचीत की। इस दौरान पायलट ने कहा कि पार्टी के भीतर के विचारों, गवर्नेंस जैसे मुद्दों को उठाना की कोशिश करना विद्रोह नहीं है। पायलट ने कहा कि पार्टी ने मुझे बहुत सी जगह जिम्मेदारी दी, जिसे मैंने ईमानदारी से निभाया। आज सब चीज सामने हैं मेरा कहना है कि हमारी निष्ठा से सवाल करने वालों को हकीकत का सामना करना पड़ेगा।



Sachin Pilot Vs Ashok Gehlot : सोनिया ने कमेटी तो बनाई पर क्या है विकल्प?


प्रदेश की कांग्रेस सरकार में नेतृत्व को लेकर नाराजगी के बाद बगावती तेवर दिखाते हुए पायलट अपने समर्थित विधायकों के साथ अब तक दिल्ली में डेरा डाले हुए थे। एक दिन पहले ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और पार्टी के अन्य राष्ट्रीय नेताओं के साथ मुलाकात के बाद उन्होंने अपना इरादा बदलते हुए वापसी की है। इसी के साथ राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर सियासी संकट टल गया है और सरकार को गिराने की कथित साजिश करने वाले बागी कांग्रसी विधायक भी वापस लौट आए हैं। उधर, सोशल मीडिया पर पायलट समर्थक उन्हें प्रदेश का नया मुख्यमंत्री बनाए जाने की मांग उठा रहे हैं। हालांकि सूत्रों की मानें तो इस तरह की अटकलें फिलहाल कोरे कयास ही हैं।

सोशल मीडिया पर क्या कह रहे पायलट समर्थक?

सुरेन्द्र कुमार गुप्ता (@surendra303) ट्विटर पर लिख रहे हैं कि अशोक गहलोत आपकी कुर्सी ले गया निक्कमा। सचिन पायलट आपको भावी मुख्यमंत्री बनने की शुभकामनायें।

पिंकू मीणा (@pikkupm) कह रहे हैं सचिन पायलट अब सरकार में वापसी कर दिए हों तो हम एलडीसी बाबुओं का भी 3600 ग्रेड पे करवा ही दो। अगली सरकार में मुख्यमंत्री आप ही हो।

गगन गोयल (@GaganGoyal8) लिख रहे हैं कि कांग्रेस के एक नेता ने कहा है सचिन पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाया जाएं और अशोक गहलोत के बेटे को डिप्टी मुख्यमंत्री का पद दिया जाएं। अशोक गहलोत दिल्ली की राजनीति संभाले।

इसी तरह सोशल मीडिया पर सचिन पायलट को मुख्यमंत्री पद का जिम्मा सौंपे जाने को लेकर मैसेज लगातार वायरल हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री पद पर अभी गहलाेत ही!

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पायलट की वापसी को लेकर क्या-क्या बदलाव होने है इन पर अभी एक-दो दिन में और स्थिति साफ होगी लेकिन अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बने रहेंगे। हालांकि पायलट अब किसी भूमिका में और कहां का जिम्मा उठाएंगे इस पर फिलहाल कोई निर्णय नहीं हुआ है। हालांकि कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से मुलाकात के बाद पायलट ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार और संगठन के कई ऐसे मुद्दे थे जिनको हम रेखांकित करना चाहते थे। चाहे देशद्रोह का मामला हो, एसओजी जांच का विषय हो या फिर कामकाज को लेकर आपत्तियां हों, उन सभी के बारे में हमने आलाकमान को बताया। उन्होंने कहा कि हमने शुरू से यह बात कही कि जो हमारे मुद्दे हैं वे सैद्धांतिक हैं। मुझे लगता था कि ये पार्टी के हित में हैं और इनको उठाना बहुत जरूरी है। हमने ये सारी बातें आलाकमान के समक्ष रखी हैं।

NBT
Web Title rajasthan ex deputy chief minister sachin pilot arrives at jaipur welcome by supporters(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *