Kanpur News: बिकरू कांड में विकास के भाई दीपक दुबे को पुलिस ने नहीं बनाया आरोपी

[ad_1]

विकास का भाई आरोपी नहींविकास का भाई आरोपी नहीं

कानपुर

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के भाई दीपक को पुलिस ने बिकरू हत्याकांड में आरोपी नहीं बनाया है। दीपक दुबे बिकरू कांड के बाद से फरार चल रहा है। लखनऊ पुलिस ने उस पर 20 हजार रुपए का इनाम भी रखा है। सूत्रों के मुताबिक बीते 2 जुलाई की रात बदमाशों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ में दीपक दुबे की सेमी ऑटोमैटिक रायफल का इस्तेमाल किया गया था। पुलिस की शुरूआती जांच में भी यह बात सामने आई थी। इसके बाद भी पुलिस ने उसे आरोपी नहीं बनाया है।

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के भाई दीपक दुबे पर शिवली थाने और चौबेपुर थाने में कई मुकदमें दर्ज है। इसके वावजूद भी उसका असलहा लाइसेंस बन जाता है। सूत्रों के मुताबिक विकास दुबे ने दीपक दुबे का लाइसेंस बनवाया था, और उसकी रायफल विकास दुबे के पास ही रहती थी। घटना की रात भी दीपक दुबे की रायफल विकास दुबे के पास ही थी।

घटना की रात गांव में नहीं था दीपक दुबे

बीते 2 जुलाई की रात दीपक दुबे बिकरू गांव में नहीं था, इस बात के सबूत मिले है। बिकरू कांड के आरोपी शशिकांत की पत्नी मनु ने दीपक दुबे की पत्नी अंजली को फोन किया था, यह रिकॉडिंग भी वायरल हुई थी। मनु ने दीपक की पत्नी अंजली को फोन पर जानकारी दी थी कि एक बॉडी घर के आंगन में पड़ी है, और दो बॉडी घर के बाहर दीदी मुझे बहुत डर लग रहा है, अब क्या होगा। मनु और अंजली की बातचीत के दौरान बीच-बीच में दीपक दुबे भी बोल रहा था, और कह रहा था कि सभी नंबर डिलीट करके फोन बंद कर दो।

NBT

घटना में इस्तेमाल हुई थी दीपक की बंदूक

दीपक और उसकी पत्नी दोनों है फरार

बिकरू हत्याकांड के बाद से दीपक और उसकी पत्नी अंजली फरार चल रहे है। अंजली बिकरू गांव की ग्राम प्रधान भी है। शुरूआत में एसटीएफ भी दीपक की तलाश में लगी थी। लेकिन दीपक पुलिस और एसटीएफ के हाथ नहीं लगा। विकास दुबे का एनकाउंटर होने के बाद विकास की मां ने भी दीपक से सरेंडर करने की अपील की थी, इसके बाद भी दीपक ने सरेंडर नहीं किया।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *