Honour Killing : महिला आरक्षी के सामने बाप, भाई और मामा ने काट डाला उसके पति को

[ad_1]

Honour Killing : महिला आरक्षी के सामने बाप, भाई और मामा ने काट डाला उसके पति को

दो आरोपियों के हाथ और मुंह पर खून के छींटे.

हत्यारे वहीं बैठकर पुलिस का इंतजार करते रहे. मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला आरक्षी के पिता, भाई और मामा को गिरफ्तार कर लिया है. इस हत्याकांड से महिला आरक्षी बेतरह बदहवास हैं.

जालौन. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के जालौन (Jalaun) के उरई (Orai) से दिल-दहलाने वाली एक खबर आई है. यहां नाक की झूठी शान (Honour Killing) बचाने के लिए महिला आरक्षी (female constable) के सामने उसके पति की हत्या (Murder) कर दी गई. हत्या करने के बाद हत्यारे वहीं बैठकर पुलिस का इंतजार करते रहे. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला आरक्षी के पिता, भाई और मामा को गिरफ्तार कर लिया है. इस हत्याकांड से महिला आरक्षी इस कदर बदहवास हैं कि अभी वे बयान नहीं दे पाई हैं. इस महिला आरक्षी का नाम रिंकी राजपूत है. उन्होंने घरवालों की मर्जी के खिलाफ अपने प्रेमी मनीष से शादी की थी और उसके बाद घरवालों से अलग होकर उरई कोतवाली क्षेत्र के शिवपुरी मुहल्ले में किराये के मकान में रहने लगी थीं. इसी मकान में इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया है.

रेकी करने आया था रिंकी का भाई अंकित राजपूत

फिलहाल वह मेटरनिटी लीव पर चल रही थीं. उनका 4 महीने का एक बच्चा है. प्रेम विवाह के डेढ़ साल बीत जाने के बाद भी उनके मायके से उनसे मिलने कोई नहीं आया था. लेकिन रिंकी परिवारवालों की इस नाराजगी को नजरअंदाज करती रहीं और अपने पति और बच्चे के साथ खुशी से रहने लगी. लेकिन इसी 22 अगस्त को रिंकी का भाई अचानक रिंकी से मिलने आया. भाई को देख कर रिंकी फूली न समाईं. उन्हें लगा कि उनका भाई अंकित अपने भांजे को देखने आया है. रिंकी ने लौटते समय अपने भाई को कपड़े खरीदने के लिए उपहार स्वरूप 4000 हजार रुपये दिए.

पति की वीभत्स हत्या की गवाह आरक्षी रिंकी राजपूत बदहवासी के आलम में हैं.

पति की वीभत्स हत्या की गवाह आरक्षी रिंकी राजपूत बदहवासी के आलम में हैं.

मैं फिर आऊंगा दीदी : अंकित़

घर लौटते समय रिंकी के भाई अंकित ने कहा था – दीदी मैं जल्द फिर आऊंगा. यह सुनकर रिंकी बहुत खुश हो गई थीं. उन्होंने ये सोचा भी न था कि उस का भाई जब लौट कर आएगा, तो उसका सुहाग ही उजाड़ कर जाएगा. बीते 27 अगस्त को जब भाई अपने पिता प्रेम सिंह और मामा देशराज के साथ रिंकी के उरई स्थित मकान पर पहुंचा तो उनके इरादे से अनजान रिंकी अपने पिता, भाई और मामा के लिए खाना बनाने की तैयारी में लग गई. तभी रिंकी के मामा ने रिंकी को पीछे से दबोच लिया. इस बीच उसके पति मनीष को भी रिंकी के बाप और भाई ने पकड़ लिया और उस पर कुल्हाड़ी और चाकू से हमला करना शुरू कर दिया. रिंकी अपने पति मनीष की जान की भीख मांगती रही, लेकिन झूंठी इज्जत बचाने की आग में जल रहे उसके घरवालों ने जरा भी तरस न खाया. रिंकी चीखती रही और उसके घरवाले वहशी बने मनीष पर वार करते रहे.

हत्या के बाद मौके से नहीं भागे हत्यारे

मनीष की हत्या के बाद हत्यारे उसी कमरे में जम कर बैठ गए और पुलिस का इंतजार करते रहे. हत्या की सूचना पर पहुंची पुलिस ने हत्या के मुलजिमों को रक्तरंजित हत्यारों के साथ मौके से गिरफ्तार कर लिया है. उरई कोतवाली पुलिस ने रिंकी राजपूत की तहरीर पर इन आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. वहीं आंखों के सामने अपने पति की वीभत्स तरीके से हुई हत्या से रिंकी राजपूत अभी भी बदहवास हैं.

एक प्रेम कहानी का दुखद अंत

रिंकी राजपूत की इस प्रेम कहानी की शुरुआत फतेपुर जनपद के कल्याणपुर थाने के ग्राम गौसपुर से हुई थी. इस गांव में रिंकी और मनीष राजपूत का बचपन बीता था. दोनों सजाती होने के साथ-साथ एक ही गांव के रहने वाले थे. उनकी प्राइमरी से लेकर उच्च शिक्षा साथ में ही हुई. साथ खेलना, पढ़ना कब प्यार में बदल गया, दोनों को पता ही नहीं चला. पढ़ाई के दौरान ही 2018 में रिंकी राजपूत ने पुलिस की नौकरी ज्वाइन कर ली. मनीष भी दरोगा भर्ती की तैयारी में जुट गया. रिंकी मनीष को बहुत चाहती थी. पुलिस सेवा में आने के बाद रिंकी ने अपने परिजनों से मनीष के साथ शादी करने की इच्छा जताई. परिजनों के विरोध करने के बाद भी रिंकी ने फरवरी 2018 में मनीष के परिजनों की राजमंदी से हिन्दू रीति-रिवाज से शादी कर जालौन के रामपुरा थाने में ड्यूटी ज्वाइन कर ली. नवविवाहित जोड़ा उरई के शिवपुरी में कराये के मकान में रहने लगा. इस बीच उनको एक बच्चा हुआ, जो फिलहाल चार महीने का है. बच्चे की देख-भाल के लिए रिंकी अभी मेटरनिटी लीव पर हैं. पर उन्हें नहीं पता था कि उनके बाप, भाई और मामा आज भी उसके प्रेम विवाह की खुन्नस में सुलग रहे हैं. इस वारदात के बाद से बदहवास रिंकी 18 घंटे बाद भी अभी कुछ भी विस्तार से बता पाने की हालत में नहीं हैं.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *