BSP के कद्दावर नेता रामवीर उपाध्याय के बेटे बोले- PM और CM योगी की कार्यशैली से बहुत ज्यादा प्रभावित

[ad_1]

BSP के कद्दावर नेता रामवीर उपाध्याय के बेटे बोले- PM और CM योगी की कार्यशैली से बहुत ज्यादा प्रभावित

बसपा के कद्दावर नेता रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग ने दिखाई बीजेपी ज्वाइन करने में दिलचस्पी

चिराग ने बताया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की कार्यशैली से बहुत प्रभावित हैं. उन्होंने कहा कि जिस स्वछंदता से बीजेपी में कोई भी कार्यकर्त्ता काम कर सकता है वैसा किसी अन्य पार्टी में नहीं.

आगरा. बसपा सरकार (BSP Government) में कैबिनेट मंत्री रहे कद्दावर नेता रामवीर उपाध्याय (Ramveer Upadhyay) बीजेपी (BJP) का दामन थामने को तैयार हैं. उनके बेटे चिराग उपध्याय (Chirag Upadhyay) ने इस बात की पुष्टि की कि वे तीन चार दिन में बीजेपी में शामिल हो जाएंगे. चिराग ने बताया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की कार्यशैली से बहुत प्रभावित हैं. उन्होंने कहा कि जिस स्वछंदता से बीजेपी में कोई भी कार्यकर्त्ता काम कर सकता है वैसा किसी अन्य पार्टी में नहीं. चिराग ने कहा कि राम मंदिर निर्माण का काम प्रारंभ होने से वे ख़ासा प्रभावित हैं.

चिराग ने कहा, “मैं पीएम मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से काफी प्रभावित हूं. मैं राम का भक्त हूं. अब राम मंदिर बनने जा रहा है. मैं बीजेपी की विचारधारा से प्रभावित हूं. वैसे तो बीजेपी में तीन चार दिन बाद लखनऊ में शामिल होंगे, लेकिन बीजेपी में मैं अपनी बात अच्छे से रख सकता हूं. अब मैं इस विचारधारा से जुड़कर देश की सेवा करना चाहता हूं.”

रामवीर उपध्ययाय ने की सीएम योगी से मुलाक़ात

इससे पहले,  बसपा के पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा एक बार फिर उस वक्त शुरू हो गई. उन्होंने शनिवार शाम को सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. उधर, बसपा नेता के मुलाकात के बाद राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. सूत्रों के मुताबिक ब्राह्मणों को साधने के लिए रामवीर उपाध्याय को बीजेपी में शामिल किया जा सकता है. वहीं सूत्र बताते हैं कि रामवीर उपाध्याय के साथ उनके पुत्र चिराग उपाध्याय भी बीजेपी का दामन थाम सकते हैं .हाथरस के सादाबाद से बसपा के विधायक रामवीर उपाध्याय को सतीश चंद्र मिश्रा के बाद पार्टी का प्रमुख ब्राह्म्ण चेहरा माना जाता है. इस बार के विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रचंड बहुमत से जीतने के बाद से ही माना जा रहा था कि रामवीर उपाध्याय भाजपा में शामिल हो सकते हैं. आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी को गले लगाना पूर्व मंत्री एवं विधायक रामवीर उपाध्याय को महंगा पड़ गया था.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *