7 बीघा जमीन गिरवी रखने के बाद भी साहूकार ने नहीं दिए रुपए, परेशान किसान ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

[ad_1]

7 बीघा जमीन गिरवी रखने के बाद भी साहूकार ने नहीं दिए रुपए, परेशान किसान ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

सिंह ने बताया कि पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है. (सांकेतिक फोटो)

चिल्ला थाने के प्रभारी निरीक्षक रामाश्रय सिंह (Ramashray Singh) ने शनिवार को बताया कि पलरा गांव में सात बीघे कृषि भूमि के किसान कुलदीप सिंह (35) ने आत्महत्या कर ली.

बांदा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बांदा जिले (Banda District) के चिल्ला थाना स्थित पलरा गांव (Palra Village) में शुक्रवार को एक किसान ने घर में फांसी का फंदा लगाकर कथित रूप से आत्महत्या (Suicide) कर ली है. पुलिस ने इसकी जानकारी दी है. चिल्ला थाने के प्रभारी निरीक्षक रामाश्रय सिंह ने शनिवार को बताया कि पलरा गांव में सात बीघे कृषि भूमि के किसान कुलदीप सिंह (35) का शव शुक्रवार को उसके घर के भीतर रस्सी के सहारे फांसी के फंदे से लटका हुआ बरामद किया गया है.

उन्होंने किसान के परिजनों के हवाले से बताया कि कुलदीप ने अपनी सात बीघे की कृषि भूमि गिरवी रखी थी. लेकिन कुलदीप ने जिस व्यक्ति को भूमि गिरवी रखी थी, उसने बदले में कुलदीप को रुपए नहीं दिए.  संभवतः इसी से परेशान होकर उसने फांसी लगाकर आत्महत्या की है. सिंह ने बताया कि पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है और पूरे मामले की जांच की जा रही है.

बुधवार को दो प्रवासी मजदूरों ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी
पिछले तीन दिनों के अंदर बांदा में तीन लोगों ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. बीते गुरुवार को खबर सामने आई थी कि बांदा जिले में बुधवार को अलग-अलग कारणों से दो प्रवासी मजदूरों ने फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. पहली घटना बिसंडा थाना क्षेत्र (Bisanda Police Station) की थी. प्रभारी निरीक्षक अखिलेश मिश्रा ने बृहस्पतिवार को बताया कि क्षेत्र के अलिहा गांव में छोटकू (33) ने अपने मकान के पिछले हिस्से के कमरे में पंखे की हुक से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.  उन्होंने बताया कि परिजनों की सूचना पर पुलिस ने शव को फंदे से उतारकर पोस्टमॉर्टम करवाया है.छोटकू हरियाणा में ईंट पथाई का काम किया करता था
एसएचओ ने बताया कि छोटकू हरियाणा में ईंट पथाई का काम किया करता था. लॉकडाउन घोषित होने के बाद वह परिवार के साथ घर लौटा था. वहीं, दूसरी घटना चिल्ला थाना क्षेत्र की था. प्रभारी निरीक्षक रामाश्रय सिंह ने बताया कि डिघवट गांव के रामबाबू (40) ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. सिंह ने उसकी पत्नी दया के हवाले से बताया कि भोजन में सब्जी न बनने पर मामूली विवाद हुआ था, इसके बाद रामबाबू ने बंद कमरे में फांसी लगा ली. एसएचओ ने बताया कि रामबाबू दिल्ली में दिहाड़ी मजदूर था, कोरोना महामारी के दौरान अपने घर लौटा था.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *