69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती: आवेदन में त्रुटि करनेवालों ने फैसले के खिलाफ दाखिल की अपील

[ad_1]

69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती: आवेदन में त्रुटि करनेवालों ने फैसले के खिलाफ दाखिल की अपील

इलाहाबाद हाईकोर्ट

अपील पर सुनवाई कर रहे चीफ जस्टिस गोविंद माथुर और जस्टिस एस.डी सिंह की बेंच ने सभी अपील को अंतिम निस्तारण के लिए तीन सितंबर को प्रस्तुत करने का आदेश दिया है

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    August 25, 2020, 10:17 PM IST

प्रयागराज. 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती (Assistant Teacher Recruitment) में आवेदन फार्म (Application Form) में त्रुटियां (Error) करने वाले अभ्यर्थियों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के एकल न्यायपीठ के आदेश को स्पेशल अपील दाखिल कर चुनौती दी है. एकल पीठ ने त्रुटियां सुधारने का आदेश देने से इनकार करते हुए याचिकाएं खारिज कर दी थी. इसके खिलाफ आशुतोष कुमार श्रीवास्तव और 35 अन्य द्वारा याचिकाएं दाखिल की गई हैं. अपील पर सुनवाई कर रहे चीफ जस्टिस गोविंद माथुर और जस्टिस एस.डी सिंह की बेंच ने सभी अपील को अंतिम निस्तारण के लिए तीन सितंबर को प्रस्तुत करने का आदेश दिया है.

अपील करने वालों के वकील सीमांत सिंह का कहना है कि याचिकाकर्ताओं ने सहायक अध्यापक पात्रता परीक्षा के लिए परीक्षा नियामक प्राधिकारी के समक्ष (सामने) आवेदन किया था. बता दें कि एक दिसंबर, 2018 को शासन का आदेश आया कि इस परीक्षा के आवेदन में दी गई प्रविष्टियों को आगे के लिए भी अंकित किया जाएगा.

अभ्यर्थियों से नियुक्ति के लिए दोबारा आवेदन मांगा गया

इसके बाद नियुक्ति के लिए उनसे दोबारा आवेदन मांगा गया. इस बार भी पूरा ब्यौरा मांगा गया जबकि होना यह चाहिए था कि नियुक्ति के लिए मांगे गए आवेदन में सिर्फ सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा का प्राप्तांक (टोटल मार्क्स) और जिले की वरीयता मांगी जानी चाहिए. क्योंकि 15 मार्च, 2018 को हुए 22वें संशोधन में स्पष्ट है कि नियुक्ति के लिए सिर्फ उन्हीं लोगों के आवेदन लिए जाएंगे जो सहायक अध्यापक पद की अर्हता (Eligibility) रखते हैं. वकील का कहना था कि याचीगण भर्ती परीक्षा में अपने प्राप्तांकों के आधार पर सफल हुए हैं. दोबारा आवेदन में हुई गलती को सुधारने का मौका दिया जाना चाहिए. यह उनसे नए सिरे से आवेदन लिया जाए.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *