सुन्नी वक्फ बोर्ड ने किया खंडन, कहा- अयोध्या में बाबर के नाम पर नहीं बनेगी मस्जिद या अस्पताल

[ad_1]

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने किया खंडन, कहा- अयोध्या में बाबर के नाम पर नहीं बनेगी मस्जिद या अस्पताल

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड इस ट्रस्ट में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. निर्माण संबंधी तमाम जिम्मेदारियां इसी ट्रस्ट के जिम्मे होंगी.

सोशल मीडिया पर चल रही खबरों का खंडन करते हुए अतहर हुसैन (Athar Hussain) ने कहा कि रौनाही में अस्पताल बनेगा या नहीं अभी इस पर फाइनल निर्णय नहीं हुआ है.

लखनऊ. सुप्रीम कोर्ट के बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) विवाद के फैसले के बाद अयोध्या के रौनाही (Raunahi) में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड (Sunni Central Waqf Board) को 5 एकड़ जमीन दी गई है, लेकिन पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर जमीन पर निर्माण संबंधित तमाम भ्रामक खबरे चल रही हैं. सुन्नी सेंट्रल वक्फ  बोर्ड ने इन तमाम भ्रामक खबरों पर विराम लगाते हुए कहा कि इस 5 एकड़ जमीन पर सुन्नी सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड बाबर के नाम पर कोई भी मस्जिद और कोई भी हॉस्पिटल नहीं बनाएगा. सोशल मीडिया पर लगातार चल रही भ्रामक खबरों पर सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के सचिव और प्रवक्ता अतहर हुसैन (Athar Hussain) ने न्यज18 से बातचीत में इस बात को क्लियर कर दिया है. उन्होंने कहा कि फिलहाल अभी वहां पर निर्माण शुरू नहीं हो सकता. कागजी कार्रवाइयों को पूरा करने के बाद सबसे पहले हम निर्माण के लिए बनाए गए संपूर्ण ट्रस्ट के गठन की ओर बढ़ रहे हैं.

आपको बता दें कि सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड इस ट्रस्ट में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है. निर्माण संबंधी तमाम जिम्मेदारियां इसी ट्रस्ट के जिम्मे होंगी. ट्रस्ट में अधिकतम 15 सदस्यों को रखा जाना है, जिनमें से महज 9 सदस्यों के नामों का ही अभी तक ऐलान हुआ है. अतहर हुसैन ने बताया कि सबसे पहले संपूर्ण ट्रस्ट के नामों का ऐलान किया जाएगा. उसके बाद ट्रस्ट रौनाही में निर्माण संबंधी तमाम बारीकियों को देखेगा. अतहर हुसैन ने यह भी बताया कि अयोध्या में बनने वाली मस्जिद में इंडो इस्लामिक कल्चरल सेंटर, लाइब्रेरी और तमाम दूसरी चीजों की सुविधाएं होंगी. ताकि इससे देशभर के लोगों को भरपूर फायदा मिले.

रौनाही में अस्पताल बनेगा या नहीं अभी इस पर निर्णय फाइनल नहीं हुआ है
वहीं, सोशल मीडिया पर चल रही खबरों का खंडन करते हुए हुसैन ने कहा कि रौनाही में अस्पताल बनेगा या नहीं अभी इस पर फाइनल निर्णय नहीं हुआ है. सोशल मीडिया पर खबर चल रही थी रौनाही में बनने वाले अस्पताल का नाम बाबरी अस्पताल होगा और इसके निदेशक गोरखपुर के निलंबित डॉक्टर डॉ कफील हो सकते हैं. इन्हीं तमाम बातों का खंडन करते हुए अतहर हुसैन ने कहा कि न तो वहां पर बनने वाली मस्जिद का नाम बाबर के नाम पर होगा और न ही वहां पर अस्पताल के नाम को बाबर के नाम पर रखा जाएगा. इसके साथ ही साथ वहां पर निर्माण संबंधित सभी कार्य चरणबद्ध स्थितियों में किए जाएंगे. इसके साथ ही अतहर हुसैन ने कहा कि वहां पर जब निर्माण शुरू होगा तो इसके शिलान्यास के लिए मुख्यमंत्री को भी निमंत्रण देंगे. उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुखिया का जिम्मा होता है कि वह पूरे प्रदेश का सर्वांगीण विकास करें. इसीलिए हम लोग मुख्यमंत्री को निमंत्रण देंगे और मुमकिन उम्मीद है कि मुख्यमंत्री वहां के शिलान्यास के कार्यक्रम में जरूर पहुंचेंगे.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *