सुदीक्षा भाटी के चाचा ने बताई घटना की पूरी कहानी, कहा- मनचलों की गाड़ी पर लिखा था जाट

[ad_1]

सुदीक्षा भाटी के चाचा ने बताई घटना की पूरी कहानी, कहा- मनचलों की गाड़ी पर लिखा था जाट

अमेरिका में किसी इमारत के बाहर खड़ी सुदीक्षा भाटी. (फाइल फोटो)

सुदीक्षा भाटी के चाचा सुरेंद्र भाटी (Surendra Bhati) ने कहा कि 2 बुलेट पर सवार होकर मनचले उनका पीछ कर रहे थे. इस बात का अहसास सुदीक्षा को भी हो गया था. इसलिए उसने भी कहा था ये बुलेट वाले अपनी बाइक का पीछा कर रहे हैं.

बुलंदशहर. सुदीक्षा भाटी (Sudiksha Bhati) की मौत मामले में उसके चाचा सुरेंद्र भाटी (Surendra Bhati) ने कई खुलासे किए हैं. उन्होंने न्यूज18 से बातचीत करते हुए कहा कि सोमवार सुबहर 8 बजे सुदीक्षा को बाइक से लेकर उसके मामा के घर जाने के लिए निकले थे. जैसे ही वे बुलंदशहर-औरांगबाद रोड (Bulandshahr-Aurangabad Road) पर पहुंचे तभी 2 बुलेट पर सवार कुछ मनचलों ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया. वे अपनी गाड़ी को कभी हमारे आगे करते तो कभी पीछ हो जाते. ऐसे में हमने अपनी बाइक को तेजी से आगे निकाली. तभी एक बुलेट सवार अचानक मेरी गाड़ी के आगे आ गया और ब्रेक लगाकर रुक गया. ऐसे में मैंने भी आनन-फानन में ब्रेक लगा दिया. इससे सुदीक्षा उछलकर सड़क पर गिर गई और उसकी मौत हो गई और मैं गंभीर रूप से घायल हो गया.

सुरेंद्र भाटी ने कहा कि सड़क हादसे के बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए और एंबुलेंस बुलाई गई. फिर, हम दोनों को अस्पताल ले जाया गया. उन्होंने कहा कि मनचलों की वजह से ये हादसा हुआ है. ये कौन थे ये मैं नहीं जानता. सुरेंद्र भाटी ने बताया कि मनचलों की गाड़ी पर जाट लिखा हुआ था. वे आसपास के गांव के ही होंगे. सुरेंद्र भाटी ने बताया कि सुदीक्षा ने कहा था ये बुलेट वाले अपनी बाइक का पीछा कर रहे हैं.

सूचना प्राप्त हुई थी कि एक रोड एक्सीडेंट हुआ है
वहीं, अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि पुलिस को सूचना प्राप्त हुई थी कि एक रोड एक्सीडेंट हुआ है.जब पुलिस मौके पर पहुंची तो पता चला कि सुभीक्षा नाम की लड़की जो अपने भाई के साथ मामा के घर जा रही थी, रास्ते में उसका एक्सीडेंट हो गया. जब मौजूद लोगों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि सामने से एक मोटरसाइकिल जा रही थी. उसने अचानक ब्रेक मारा और सुभीक्षा की बाइक जाकर उनकी बुलेट से टकरा गई. इससे जमीन पर गिरने से लड़की की मौत हो गई. अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि उस समय भाई ने या कसी ने छेड़छाड़ की बात नहीं बताई थी.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *