सीएम योगी की अपील का असर, अयोध्या में भूमि पूजन से पहले शुरू हुआ दीपोत्सव

[ad_1]

सीएम योगी की अपील का असर, अयोध्या में भूमि पूजन से पहले शुरू हुआ दीपोत्सव

अयोध्या में भूमि पूजन से पहले शुरू हुआ दीपोत्सव

इस मौके पर तपस्वी छावनी के जगतगुरु आचार्य परमहंस (Prahran Hans) ने कहा है कि दीपक अंधेरे को दूर करता है और यह उत्साह का प्रतीक है.

अयोध्या. अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर निर्माण (Ram Mandir) के भूमि पूजन पर पूरे देश की निगाहें टिकी हुई हैं. जबकि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के हाथों भूमि पूजन होना है और उसकी तैयारियां जोर-शोर से चल रही है. उधर, तपस्वी छावनी में रविवार शाम भगवा झंडे और दीपक के साथ शिलान्यास का उत्सव शुरू हो गया. तपस्वी छावनी के महंत आचार्य परमहंस महाराज ने तपस्वी छावनी में भगवा झंडे और 5100 घी के दीये दीपक जलाकर मंदिर के शिलान्यास से 3 दिन पहले से  दीपावली मनाई है. हालांकि सोमवार से शिलान्यास और भूमि पूजन की पूजा अर्चना क्रमवार तरीके से शुरू हो जाएगी, लेकिन उसके पहले ही तपस्वी छावनी में भगवा झंडे के साथ दीप प्रज्ज्वलित कर भगवान राम के मंदिर के शिलान्यास को लेकर साधु संत अपनी खुशी जता रहे है.

इस मौके पर तपस्वी छावनी के जगतगुरु आचार्य परमहंस ने कहा है कि दीपक अंधेरे को दूर करता है दीपक उत्साह का प्रतीक है. हम साधु संतो में राम मंदिर के शिलान्यास की बेहद खुशी और इस खुशी को मनाने के लिए आज से ही हमने दीपोत्सव का त्योहार शुरू कर दिया है जो 5 अगस्त तक जारी रहेगा. गौरतलब है कि शनिवार को अयोध्या दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से अपील की थी कि कोरोना काल में लोग अपने घरों पर ही रहकर रामलला के मंदिर के भूमि पूजन के उत्सव को मनाएं.

उन्होंने कहा था कि आधारशिला रखने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या आएंगे. उस दौरान पूरी अयोध्या भूमि पूजन में अपने घरों से ही सम्मिलित हों. लोग अपने घरों से ही धार्मिक अनुष्ठान करें और घरों पर ही दीपक जलाएं. अयोध्या के मंदिरों में भी इस तरीके की कुछ तैयारियां की हैं. तीन दिवसीय उत्सव अयोध्या के हर गली मोहल्लों में मनाया जाएगा. संपूर्ण अयोध्या भगवान के भूमि पूजन का उत्सव मनाएगी. अयोध्‍या में दीपावली जैसा माहौल रहेगा. अयोध्या दुल्हन की तरह सजने जा रही है.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *