रावण मंदिर के पुजारी को भी अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन का इंतजार

[ad_1]

सांकेतिक तस्वीरसांकेतिक तस्वीर
हाइलाइट्स

  • अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए रावण मंदिर के पुजारी ने जताई खुशी
  • उत्तर प्रदेश के गौतम बुध नगर के बिसरख इलाके में स्थित है रावण का मंदिर
  • पुजारी महंत रामदास का कहना है कि भूमि पूजन संपन्न होने के बाद वितरित करूंगा मिठाई

अयोध्या

अयोध्या से 650 किलोमीटर दूर नोएडा में रावण के मंदिर के पुजारी को भी राम नगरी (Ram Mandir Latest News) में भव्य मंदिर के शिलान्यास की घड़ी का बेसब्री से इंतजार है। गौतम बुध नगर के बिसरख इलाके में रावण का मंदिर स्थित है। उसके पुजारी महंत रामदास का कहना है कि 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन का उन्हें बेसब्री से इंतजार है और यह रस्म संपन्न होने के बाद वह लोगों में मिठाई बांटेंगे।

महंत रामदास ने कहा, ‘अगर रावण ना होता, तो कोई भी श्रीराम को नहीं जानता और अगर राम नहीं होते तो दुनिया को रावण के बारे में नहीं पता चलता।’ उन्होंने कहा कि वह अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर बेहद प्रसन्न हैं। शिलान्यास के बाद वह लोगों में लड्डू बांटकर खुशी मनाएंगे। मंदिर का शिलान्यास एक बहुत शुभ घटनाक्रम है। वहां भव्य राम मंदिर का निर्माण होने पर उन्हें बहुत खुशी होगी।

पढ़ें: UP में कोरोना की टेंशन, 50 हजार बेड बनेंगे



यहां रावण की होती है पूजा

महंत ने बताया कि लोकोक्तियों के मुताबिक बिसरख रावण का जन्म स्थान है, लिहाजा हम इसे रावण जन्मभूमि भी कहते हैं। उन्होंने रावण को परम ज्ञानी व्यक्ति बताते हुए कहा कि सीता का हरण करने के बाद रावण ने उन्हें अपने महल में ले जाने के बजाए अशोक वाटिका में रखा। इसके अलावा माता सीता की सुरक्षा के लिए महिलाओं को तैनात किया। अगर भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है तो मेरा मानना है कि रावण भी लोगों की मर्यादा का ख्याल रखता था। महंत रामदास ने बताया कि मंदिर में रावण के साथ-साथ भगवान शिव, पार्वती और कुबेर की मूर्तियां भी रखी हुई है। मंदिर में आने वाले करीब 20 फीसदी श्रद्धालु रावण की पूजा करते हैं।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *