राम मंदिर आन्दोलन के अगुवा रहे अशोक सिंघल को भारत रत्न देने की मांग, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने किया समर्थन

[ad_1]

राम मंदिर आन्दोलन के अगुवा रहे अशोक सिंघल को भारत रत्न देने की मांग, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने किया समर्थन

प्रयागराज पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य

प्रयागराज (Prayagraj) पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या (Deputy CM Keshav Prasad Maurya) ने भी अशोक सिंघल (Ashok Singhal) को “भारत रत्न” (Bharat Ratna) दिए जाने की मांग का समर्थन किया है.

प्रयागराज. अयोध्या (Ayodhya) में भव्य राम मंदिर (Ram Mandir) के निर्माण के लिए भूमि पूजन का कार्यक्रम पूरा होने के बाद अब राम मंदिर आन्दोलन के अगुवा रहे विहिप (VHP) के अन्तर्राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वर्गीय अशोक सिंघल (Late Ashok Singhal) को देश का सर्वोच्च सम्मान “भारत रत्न” (Bharat Ratna) दिए जाने की मांग उनकी कर्मभूमि रही संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) से उठने लगी है. अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के बाद पहली बार प्रयागराज पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने भी अशोक सिंघल को “भारत रत्न” दिए जाने की मांग का समर्थन किया है. डिप्टी सीएम ने कहा है कि स्वर्गीय अशोक सिंघल ने भव्य राम मंदिर निर्माण का जो सपना देखा था. वह सपना आज साकार रुप ले रहा है. उन्होंने स्वर्गीय अशोक सिंघल को श्वेत वस्त्रधारी विराट संत बताते हुए कहा है कि ऐसी मांग पूज्य संतों की ओर से पहले भी की जाती रही है.

इन्होने उठाई सबसे पहले मांग

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने कहा है कि अशोक सिंघल को राम जन्मभूमि आन्दोलन के महानायक के नाते ही नहीं बल्कि देश में विभिन्न क्षेत्रों में उनके सर्वोच्च योगदान को देखते हुए उन्हें यह सम्मान जरुर मिलना चाहिए. गौरतलब है कि प्रयागराज के एक संत परमहंस स्वामी प्रभाकर महाराज ने सबसे पहले अशोक सिंघल को देश का सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न दिए जाने की मांग की है.

डिप्टी सीएम ने कहा है कि अयोध्या का विकास सरकार की पहली प्राथमिकता रही है, इसलिए भव्य मंदिर निर्माण के साथ ही केन्द्र और प्रदेश सरकार मिलकर अयोध्या के साथ ही काशी और प्रयागराज का भी व्यापक विकास करेंगे. उन्होंने कहा है कि कोविड के चलते आर्थिक कठिनाई जरुर है, लेकिन इन तीनों धार्मिक स्थलों के विकास में धन की कमी आड़े नहीं आयेगी.परशुराम की प्रतिमा पर ये बोले मौर्य

वहीं महर्षि परशुराम की प्रतिमा लगाने को लेकर विपक्षी राजनीतिक दलों में मची होड़ पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने सपा, बसपा और कांग्रेस पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि तीनों ही राजनीतिक दल मुद्दा विहीन हो गए हैं. तीनों दल 2014 का लोकसभा चुनाव, 2017 में यूपी का विधानसभा चुनाव और फिर 2019 में लोकसभा चुनाव बुरी तरह से हार चुके हैं. उन्होंने कहा है कि 2022 में तीनों पार्टिंया अगर एक साथ मिलकर भी चुनाव लड़ेंगी तो भाजपा 2014, 2017 और 2019 का इतिहास दोहरायेगी. वहीं अयोध्या के बाद काशी मथुरा को मुक्त कराने को लेकर साधु संतों की मांग के सवाल पर डिप्टी सीएम ने कहा है कि अभी राम भक्त अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की खुशी मना रहे हैं. ये विषय सरकार का नहीं है, इसलिए जिनका विषय है उन्हीं से इस मुद्दे पर सवाल करना उचित रहेगा.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *