रामलला की पोशाक के रंग को लेकर उठा विवाद, अब ट्रस्‍ट की तरफ से आई यह सफाई

[ad_1]

रामलला की पोशाक के रंग को लेकर उठा विवाद, अब ट्रस्‍ट की तरफ से आई यह सफाई

राम जन्‍म भूमि तीर्थ ट्रस्‍ट के महासचिव संपत राय.

मंदिर शिलान्‍यास (Ram Mandir Foundation Stone) के दौरान, भगवान राम (Lord Ram) को हरे रंग की पोशाक (Green Dress) पहनाई जाएगी, जिसको लेकर अब विवाद खड़ा हो गया है.

अयोध्‍या. राम मंदिर (Ram Mandir) के शिलान्‍यास (Foundation Stone) कार्यक्रम के पहले रोजना नएनए विवाद (Controversy) सामने आ रहे हैं. इस बार विवाद भगवान राम (Lord Ram) के हरे रंग की पोशाक (Dress) को लेकर है. दरअसल, बुधवार को होने वाले भूमि भूजन कार्यक्रम के दौरान भगवान राम को विशेष रूप से तैयार की गई हरे रंग की पोशाक पहनाई जाएगी. यह बात सार्वजनिक होते ही कई लोग इस पोशाक को धर्म और संप्रदाय से जोड़ने लगे. यह विवाद इतना गहरा गया कि आज राम जन्‍म भूमि तीर्थ ट्रस्‍ट (Ram Janma Bhoomi Teerth Trust) के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) को सामने आकर सफाई देनी पड़ी.

राम जन्‍म भूमि तीर्थ ट्रस्‍ट (Ram Janma Bhoomi Teerth Trust) के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) ने कहा है कि कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) को लेकर इतना परेशान हैं कि वे उन्‍हें अपने सपनों में भी देखते हैं और उस पर नींद खो देते हैं. इसी तरह के लोग, भगवान राम (Lord Ram) के हरे कपड़ों को पीएम मोदी (PM Modi) से जोड़ रहे हैं. उन्‍होंने यह भी बताया कि भगवान राम की पोशाक के निर्धारण का काम प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO), मुख्‍यमंत्री कार्यालय (CM Office) या ट्रस्‍ट का नहीं है. पुजारी दिन के अनुसार भगवान राम के कपड़े का रंग तय करते हैं. यह एक निश्चित प्रक्रिया है. किसी के दबाव में आकर वह वह किसी प्रकार का बदलाव नहीं करता है.

इकबाल अंसारी और मोहम्‍मद शरीफ को ट्रस्‍ट ने भेजा निमंत्रण
राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट महासचिव चंपत राय ने बताया कि हमने राम जन्मभूमि शिलान्यास आयोजन में भारत के लगभग 36 आध्यात्मिक परंपराओं के 135 संतों को निमंत्रण भेजा है. महात्मा संतों को मिलाकर लगभग पौने दो सौ लोगों को निमंत्रण भेजा गया है. उन्‍होंने बताया कि हमने इकबाल अंसारी और फैजाबाद निवासी पद्म मोहम्मद शरीफ को भी निमंत्रण भेजा है. महासचिव चंपत राय के अनुसार, मोहम्‍मद शरीफ लावारिस शवों का उनके धर्मानुसार अंतिम संस्कार करते हैं.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *