योगी सरकार ने 10 करोड़ नवजात और किशोरों के लिए शूरू की यह नई स्वास्थ्य योजना

[ad_1]

योगी सरकार ने 10 करोड़ नवजात और किशोरों के लिए शूरू की यह नई स्वास्थ्य योजना

योगी आदित्यनाथ ने राज्य के 11 जिलों में ‘राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान’ की शुरुआत की.

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने उत्तर प्रदेश के इन 11 जिलों में ‘राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान’ की शुरुआत की. इस अभियान के तहत एक वर्ष आयु के बच्चों से लेकर 19 वर्ष तक के युवाओं को कृमि नियंत्रण की दवा खिलाई जाएगी.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने सोमवार को राज्य के 11 जिलों में ‘राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान’ की शुरुआत की. इस अभियान के तहत एक वर्ष आयु के बच्चों से लेकर 19 वर्ष तक के युवाओं को कृमि नियंत्रण की दवा खिलाई जाएगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम चरण में सोमवार से शुरू होकर अगले 10 दिन तक चयनित 11 जनपदों-अमेठी, अमरोहा, बांदा, चित्रकूट, एटा, फिरोजाबाद, हापुड़, हाथरस, कासगंज, शाहजहांपुर तथा सोनभद्र में यह अभियान चलाया जाएगा. इन 11 जनपदों में कृमि मुक्त किए जाने वाले एक वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों तथा किशोर तथा किशोरियों की संख्या 99 लाख 28 हजार है.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत तीन प्रमुख कार्यक्रम शुरू
योगी ने कहा, ‘राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान के माध्यम से प्रदेश के सभी जनपदों में लगभग 10 करोड़ बच्चे, किशोर-किशोरी लाभान्वित होंगे. यह अभियान चार चरणों में माह अगस्त, सितम्बर, अक्टूबर तथा नवम्बर, 2020 में संचालित किया जाएगा. इसके तहत एक वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों तथा किशोर और किशोरियों को 400 मिली ग्राम एल्बेण्डाजॉल की चबाने वाली गोली दी जाएगी.

योगी ने कहा कि पीसीवी (न्यूमोकोकल कॉन्ज्यूगेट वैक्सीन) कार्यक्रम की भी शुरुआत की जा रही है. इस टीकाकरण से न्यूमोनिया और दिमागी बुखार जैसी बीमारियों से होने वाली शिशु मृत्यु दर को रोकने में सफलता मिलेगी. प्रदेश के 19 जनपदों में यह टीका पहले से ही लगाया जा रहा है. सोमवार से इस टीके को प्रदेश के अन्य 56 जनपदों में भी लगाया जाएगा. उन्होंने कहा कि इसी प्रकार विटामिन-ए सम्पूर्ण कार्यक्रम की भी शुरुआत हो रही है.

ये भी पढ़ें: कैसे बना मुख्तार अंसारी गैंग का मुख्य शूटर राकेश पांडेय उर्फ हनुमान, जानें अपराध की दुनिया की Inside Story

इसके तहत प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि तथा रतौंधी जैसी बीमारियों से बचाव के लिए नौ माह से पांच वर्ष तक के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक पिलाई जाएगी. इसके तहत निर्धारित लक्ष्य के अनुसार लगभग ढाई करोड़ बच्चों को विटामिन-ए दिया जाना है. योगी ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण काल में विटामिन-ए की खुराक लाभकारी होगी। प्रदेश में पांच वर्ष आयु के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक और पीसीवी टीकाकरण निःशुल्क किया जाएगा.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *