मायावती की मूर्ति का मामला: बसपा सुप्रीमो का ट्वीट- नई मूर्ति नहीं, मरम्मत और रख-रखाव

[ad_1]

मायावती की मूर्ति का मामला: बसपा सुप्रीमो का ट्वीट- नई मूर्ति नहीं, मरम्मत और रख-रखाव

लखनऊ में बहुजन प्रेरणा केंद्र में मायावती की मूर्ति को लेकर सियासत शुरू हो गई है.

लखनऊ में मायावती की मूर्ति (Statue of Mayawati) के मामले में खुद बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट कर कहा कि कोई नई मूर्ति नहीं लग रही है. साफ-सफाई, मरम्मत और रख-रखाव का काम चल रहा है.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में बसपा शासन काल में बनाए गए बहुजन प्रेरणा केंद्र (Bahujan Prerna Kendra) पर बसपा सुप्रीमो मायावती की मूर्ति (BSP Supremo Mayawat Statue) लगाए जाने का मामला तूल पकड़ने लगा है. विपक्षी पार्टियों ने मायावती पर तंज कसना शुरू कर दिया है. मूर्तियों पर चल रहे काम के वीडियो मीडिया में भी खूब चल रहे हैं. इस बीच पूरे मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर सफाई दी है.

मायावती ने कहा है कि लखनऊ प्रेरणा केंद्र पर किसी तरह की कोई नई मूर्ति नहीं लगाई जा रही है बल्कि मूर्तियों का रख-रखाव बेहतर हो सके इसलिए रिनोवेशन का काम चल रहा है. मायावती ने लगातार 3 ट्वीट करके इस मसले में सफाई पेश की है.

साफ-सफाई, मरम्मत का काम चल रहा: मायावती

उन्होंने कहा, “जैसा कि सर्वविदित है कि अपने देश में सरकारी, गैर-सरकारी व सार्वजनिक स्थानों/स्थलों पर जो मूर्तियां आदि लगी होती हैं. उनकी साफ-सफाई, मरम्मत व रख-रखाव पर पूरा ध्यान नहीं दिया जाता है. जिनकी स्थिति फिर धीरे-धीरे काफी खराब हो जाती है, जिसे जनता कतई पसन्द नहीं करती है. जबकि, बीएसपी इस मामले में अपनी सरकार में सरकारी स्थानों/स्थलों पर ही नहीं बल्कि अपने प्राइवेट घरों/स्थानों पर भी लगी मूर्तियों व फव्वारों आदि की साफ-सफाई, मरम्मत व रख-रखाव आदि पर भी हमेशा विशेष ध्यान देती है, जो कि जग-जाहिर है. इसी क्रम में प्राइवेट व गैर-सरकारी लखनऊ प्रेरणा केन्द्र में जो यह सब कार्य चल रहा है, जिसे कुछ मीडिया गलत तरीके से दर्शा रहे हैं, उन्हें अपनी जातिवादी मानसिकता में जरूर कुछ बदलाव लाना चाहिए तो यह बेहतर होगा.”

जगह शिफ्ट की जा रही

इससे पहले बसपा के नेताओं ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि ये मूर्तियां नए सिरे से नहीं लगाई जा रहीं, बल्कि इन मूर्तियों को रेनोवेट किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि पहले जहां पर मूर्तियां लगी थीं, वहां पर बारिश और तेज धूप की वजह से मूर्ति के संगमरमर को नुकसान हो रहा था. लिहाजा उस जगह से हटाकर दूसरी जगह लगवाया जा रहा है. इसमें कुछ भी नया निर्माण नहीं किया जा रहा है.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *