मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल, राष्ट्रपति ने स्वीकार किया जीसी मुर्मू का इस्तीफा

[ad_1]

मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल, राष्ट्रपति ने स्वीकार किया जीसी मुर्मू का इस्तीफा

आईआईटी बीएचयू से पढ़े मनोज सिन्हा की छवि काफी साफ सुथरी है. मनोज सिन्हा राजनीति में सक्रिय रहे और सिन्हा बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष थे.

मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के नये उप राज्यपाल होंगे. मनोज सिन्हा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में केंद्रीय संचार मंत्री और और रेल राज्यमंत्री रह चुके हैं.

नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के नये उप राज्यपाल होंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने गिरीश चंद्र मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पहले उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू (Girish Chandra Murmu) ने मंगलवार शाम इस्तीफे की पेशकश की थी. सूत्रों के अनुसार, मुर्मू अगले कंट्रोलर ऑफ ऑडिट जनरल (Controller of Audit General)  हो सकते हैं.

बता दें जीसी मुर्मू को अक्टूबर 2019 में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर का पहला उप-राज्यपाल नियुक्त किया था. गुजरात कैडर (Gujarat Cadre) के आईएएस अधिकारी जीसी मुर्मू को कानून व्यवस्था का लंबा अनुभव रहा है. जब नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) गुजरात के मुख्यमंत्री थे, उस वक्त मुर्मू गृह विभाग में सचिव रहने के बाद सीएमओ में भी उनके सचिव थे. मुर्मू 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं.

वहीं, जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल मनोज सिन्हा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में केंद्रीय संचार मंत्री और और रेल राज्यमंत्री रह चुके हैं. वह बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के छात्र रहे हैं. मनोज सिन्हा का गाजीपुर के अलावा बलिया, मऊ और आजमगढ़ जिलों में दबदबा माना जाता रहा है. सिन्हा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष रहे अमित शाह के करीबी माने जाते हैं. पीएम और मनोज सिन्हा के बीच आरएसएस के दिनों से ही अच्छे संबंध हैं.गाजीपुर में जन्में और आईआईटी बीएचयू से पढ़े मनोज सिन्हा की छवि अच्छी है. वह राजनीति में सक्रिय रहे और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में छात्र संघ के अध्यक्ष थे. सिन्हा साल 1989 में बीजेपी राष्ट्रीय परिषद के सदस्य बने फिर साल 1996, साल 1999 और साल 2014 में गाजीपुर से सांसद बने.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *