प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 20 अगस्त को ‘स्वच्छ सर्वेक्षण-2020’ के नतीजों का करेंगे ऐलान, सफाईकर्मियों से भी होंगे रूबरू

[ad_1]

नई दिल्ली
केंद्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण के पांचवें संस्करण ‘स्वच्छ सर्वेक्षण- 2020’ के नतीजों की गुरुवार 20 अगस्त को घोषणा करेंगे। मंत्रालय के प्रवक्ता राजीव जैन ने मंगलवार को बताया कि 4242 शहरों, 62 छावनी बोर्ड और गंगा नदी के किनारे स्थित 92 नगरों के सर्वेक्षण में 1.87 करोड़ नागरिकों ने भागीदारी की।

जैन ने बताया कि ‘स्वच्छ महोत्सव’ में बेहतर प्रदर्शन करने वाले शहरों को कुल 129 पुरस्कार दिए जाएंगे । कार्यक्रम आयोजित कर रहे केंद्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्रालय ने कहा है कि प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए देश के तमाम हिस्सों के स्वच्छ भारत मिशन-शहरी (एसबीएम-यू) के चुनिंदा ‘स्वच्छाग्रहियों’ और सफाईकर्मियों से भी संवाद करेंगे।

मंत्रालय ने बताया कि इस अवसर पर प्रधानमंत्री डैशबोर्ड पर ‘स्वच्छ सर्वेक्षण-2020’ के परिणाम की भी घोषणा करेंगे। मंत्रालय ने कहा है कि 28 दिनों में स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 का अभियान पूरा हुआ है। स्वच्छता ऐप पर 1.7 करोड़ नागरिकों ने पंजीकरण कराया। सोशल मीडिया पर 11 करोड़ से ज्यादा बार इसे देखा गया, 5.5 लाख से ज्यादा सफाई कर्मचारी सामाजिक कल्याण कार्यक्रम से जोड़े गए और अनौपचारिक रूप से कचरा बीनने के काम में लगे 84,000 से ज्यादा लोगों को मुख्यधारा में लाया गया।

मिशन में नागरिकों की व्यापक स्तर पर भागीदारी के उद्देश्य से सरकार ने स्वच्छ सर्वेक्षण की शुरूआत की थी। इसके तहत देश के शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए उनके भीतर स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को भी बढ़ावा देना है। मंत्रालय ने कहा कि कार्यक्रम के तहत एसबीएम-यू के सफर में आवास और शहरी कार्य मंत्रालय के भागीदार संगठनों- यूनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेैनल डिवेलपमेंट (यूएसएआईडी), बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन (बीएमजीएफ) और गूगल को भी साथ लाया जाएगा और उनका सम्मान किया जाएगा।

स्वच्छ महोत्सव में स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट के अलावा स्वच्छ सर्वेक्षण नवोन्मेष पर रिपोर्ट, स्वच्छ सर्वेक्षण सोशल मीडिया रिपोर्ट और गंगा के किनारे बसे नगरों पर रिपोर्ट भी जारी की जाएंगी। सर्वेक्षण के पहले संस्करण में भारत में सबसे स्वच्छ शहर का खिताब मैसूर ने हासिल किया था, जबकि इसके बाद इंदौर लगातार तीन साल तक (2017,2018,2019) शीर्ष स्थान पर रहा। मंत्रालय ने कहा है कि 20 अगस्त को नतीजे की घोषणा हो जाएगी। कोविड-19 महामारी के कारण इस बार इसमें देरी हुई है।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *