डीएमके का आरोप- आयुष सेक्रेटरी ने हिंदी ना बोल पाने वालों को मीटिंग से निकाला

[ad_1]

हाइलाइट्स:

  • तमिलनाडु में डीएमके ने एकबार फिर लगाया है भाषा के आधार पर भेदभाव
  • स्टालिन ने कहा कि आयुष सेक्रेटरी ने हिंदी ना बोलने वालों को मीटिंग से निकाला
  • डीएमके ने कहा कि बीजेपी सरकार देशभर में हिंदी भाषा थोपना चाहती है

चेन्नै
तमिलनाडु में एक बार फिर से भाषा को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। विपक्षी पार्टी द्रविड़ मुनेत्र कझगम (डीएमके) ने आरोप लगाए हैं कि आयुष विभाग की ओर से आयोजित एक ऑनलाइन बैठक में योग और प्राकृतिक चिकित्सा से जुड़े उन पेशेवरों को बैठक छोड़कर जाने को कहा गया, जो हिंदी नहीं समझ सकते थे। डीएमके ने इस मामले में संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

डीएमके चीफ एम के स्टालिन ने आरोप लगाया कि इस प्रकरण ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेतृत्व वाली सरकार के अधिकारियों के जरिए हिंदी थोपने के अजेंडे का पर्दाफाश हो गया है। वहीं, पार्टी सांसद कनिमोझी ने आयुष मंत्री श्रीपद नाइक को पत्र लिखकर मामले में जांच की मांग की है। यह मामला हाल ही में कनिमोझी द्वारा किए गए उस दावे के बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के एक कर्मी ने उनके हिंदी नहीं बोल पाने पर पूछा था क्या वह भारतीय हैं? इसके बाद एक बार फिर हिंदी थोपे जाने की बहस शुरू हो गई।

डीएमके का आरोप- भाषा के आधार पर हो रहा भेदभाव

स्टालिन ने एक बयान में आरोप लगाया कि आयुष सचिव राजेश कोटेचा ने हिंदी को लेकर अहंकार और आक्रामकता भरा व्यवहार दिखाते हुए योग और प्राकृतिक चिकित्सा से जुड़े 37 पेशेवरों को धमकाते हुए कहा कि अगर वे हिंदी नहीं जानते हैं तो ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र छोड़कर चले जाएं। उन्होंने इसकी निंदा की।

स्टालिन ने शनिवार को कहा, ‘यह शर्मनाक है कि सचिव स्तर के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने भाषायी पूर्वाग्रह से प्रेरित होकर ऐसा असभ्य व्यवहार किया।’ उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह सुनिश्चित करने का अनुरोध किया कि ऐसी घटना फिर न हो और मुख्यमंत्री के पलनिसामी से कहा कि वह मोदी सरकार पर दबाव डालें कि केंद्र सरकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम और बैठकें सिर्फ अंग्रेजी में ही हों।

उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र की बीजेपी सरकार हिंदी को अपना पहला अजेंडा रखकर लगातार काम कर रही है और अन्य भाषाओं खासकर तमिल को हाशिए पर डालने की कोशिश कर रही है।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *