कोरोना वायरस से जंग में दिख रही उम्‍मीद की किरण: डब्‍ल्‍यूएचओ

[ad_1]

कोविड-19 महामारी के ख‍िलाफ जारी लड़ाई में अब उम्‍मीद की क‍िरण द‍िख रही है। यह कहना है व‍िश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन का। WHO प्रमुख टेड्रोस अदनोम गेब्रे‍यसस ने कहा क‍ि इस महामारी को काबू में करने के ल‍िए अभी भी देर नहीं हुई है।

Edited By Shailesh Shukla | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

कोरोना वैक्सीन को लेकर WHO ने दी चेतावनीकोरोना वैक्सीन को लेकर WHO ने दी चेतावनी

लंदन

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ जारी वैश्विक जंग में अब उम्‍मीद की किरण दिखाई देने लगी है। डब्‍ल्‍यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसस ने कहा कि कोरोना महामारी को काबू करने के लिए अभी बहुत ज्‍यादा देरी नहीं हुई है। उन्‍होंने दुनियाभर के देशों से अपील की कि वे कोरोना को फैलने से रोके ताकि समाज को फिर से खोला जा सके।

टेड्रोस ने अनुमान लगाया है कि इस सप्ताह कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या दो करोड़ तक पहुंच जायेगी, जिनमें लगभग 7,50,000 मौत के मामले शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस ने सोमवार को कहा, ‘इन आंकड़ों के पीछे बहुत दर्द और पीड़ा है।’ उन्होंने वायरस से लड़ने के लिए कोई नई रणनीति नहीं बताई लेकिन उन्होंने विश्व के लिए न्यूजीलैंड का उदाहरण रखते हुए कहा, ‘नेताओं को उपाय करने के लिए कदम उठाने चाहिए और नागरिकों को नए उपायों को अपनाने की आवश्यकता है।’

अभी रहेगा कोरोना वायरस

  • अभी रहेगा कोरोना वायरस

    WHO की एक इमर्जेंसी समीक्षा समिति ने इस बात पर जोर डाला है कि इस महामारी के ज्यादा वक्त तक रहने की आशंका बढ़ गई है और ऐसे में सतत सामुदायिक, राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक कोशिशों की जरूरत है। WHO के हालिया बयान में कोविड-19 का वैश्विक खतरे का स्तर बहुत ज्यादा बताया गया है। ध्यान देने वाली बात यह है कि एक ओर जहां पश्चिमी देश फिर से लॉकडाउन की ओर लौट रहे हैं और आर्थिक सुस्ती का भी सामना कर रहे हैं, WHO का कहना है कि महामारी का असर आने वाले दशकों में देखा जाएगा।

  • एशिया में बढ़ते मामले

    वहीं, एशिया में अब हालात ओर चिंताजनक होते जा रहे हैं। कड़े प्रतिबंधों के बावजूद भारत में एक दिन में 57 हजार और फिलिपींस में 5 हजार इन्फेक्शन के नए मामले देखे गए हैं। फिलिपींस के 80 मेडिकल असोसिएशन्स ने एक ओपन लेटर में कहा है कि कोविड-19 के खिलाफ हारी हुई जंग लड़ी जा रही है और एक मजबूत और निर्णायक ऐक्शन प्लान की जरूरत है। दूसरी ओर जापान के ओकिनावा में रेकॉर्ड केस सामने आने के बाद आपातकाल का ऐलान कर दिया गया। इनमें से ज्यादातर वहां अमेरिकी सेना के बेस से थे। हॉन्ग-कॉन्ग में बढ़ते मामलों की वजह से एक अस्थायी अस्पताल खोलना पड़ गया है।

  • लॉकडाउन की ओर लौट रहे देश

    दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस इन्फेक्शन के केस अमेरिका और फिर ब्राजील में हैं। भारत तीसरे नंबर पर है। वहीं सबसे ज्यादा मौतें भी अमेरिका में हुई हैं जिसके बाद ब्राजील है। वहीं, मौत की संख्या के मामले में मेक्सिको ब्रिटेन से आगे निकल गया है। दूसरी ओर, फ्रांस, स्पेन, पुर्तगाल और इटली ने अप्रैल-जून की तिमाही में अपनी अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट देखी जबकि यूरोप के जीडीपी में 12.1 प्रतिशत गिरावट देखी गई। उत्तर ब्रिटेन में शुक्रवार को लाखों घरों पर नए प्रतिबंध लगा दिए गए। नॉर्वे में पिछले दिनों लगातार इन्फेक्शन के मामले बढ़ते जा रहे थे और यहां दो हफ्ते में पहली बार वायरस से पहली मौत भी दर्ज की गई है।

  • फिर भी हो रहा विरोध

    बढ़ते मामलों के बावजूद यूरोप में प्रतिबंधों के खिलाफ प्रदर्शन जारी हैं। शनिवार को बर्लिन में ‘आजादी का एक दिन’ मांगकर प्रदर्शन किए गए। यहां तक कि लोग महामारी को कॉन्सपिरेसी थिअरी बता रहे हैं। ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो का कहना है कि लगभग हर किसी को ही कोरोना वायरस इन्फेक्शन होगा। दक्षिण कोरिया में एक नेता को वायरस रोकने के लिए सरकार की कोशिश में रुकावट पैदा करने के लिए गिरफ्तार किया गया।

मौसम के हिसाब से नहीं चलता कोरोना वायरस

बता दें कि न्यूजीलैंड में 100 दिन से वायरस का कोई मामला सामने नहीं आया है। टेड्रोस ने कहा कि हाल ही में ब्रिटेन और फ्रांस सहित देशों ने जो उपाय अपनाएं हैं, वे नए मामलों को रोकने के लिए आवश्यक विशिष्ट रणनीतियों का एक अच्छा उदाहरण है। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन के आपात सेवा प्रमुख ने कहा है कि कोविड-19 अन्य वायरस की तरह मौसम के हिसाब से नहीं चलता।

इन्फ्लुएंजा जैसे वायरस संक्रमण जहां मुख्य रूप से सर्दी में होते हैं, वहीं कोरोना वायरस महामारी गर्मियों में भी प्रकोप दिखा रही है। जबकि कुछ वैज्ञानिकों और नेताओं ने पहले पूर्वानुमान जताया था कि गर्मियों में कोरोना वायरस का असर कम हो जाएगा। डॉ माइकल रियान ने सोमवार को कहा, ‘वायरस ने अब तक मौसम के हिसाब से पैटर्न नहीं दिखाया है। इसने स्पष्ट दिखाया है कि अगर आप वायरस से दबाव हटाते हैं तो यह पटलवार करता है।’

डब्‍ल्‍यूएचओ ने कोरोना वायरस से जंग में जताई उम्‍मीद

डब्‍ल्‍यूएचओ ने कोरोना वायरस से जंग में जताई उम्‍मीद

Web Title who chief tedros adhanom ghebreyesus says there are green shoots of hope in fight against covid 19(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *