कांग्रेस पर गरम, BJP पर 'नरम' क्यों हैं माया?


नेहा लालचंदानी, लखनऊ
राजस्थान में सियासी संकट के बीच अशोक गहलोत औ सचिन पायलट खेमे में शह और मात का खेल चल रहा है। उधर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने अपने छह बागी विधायकों को गहलोत सरकार के खिलाफ वोट करने के निर्देश दिए हैं। फ्लोर टेस्ट की नौबत आने पर मायावती ने उन विधायकों को ये निर्देश दिया है जो पाला बदलकर कांग्रेस में चले गए थे। दो साल पहले जब कांग्रेस की सरकार बनी थी तो मायावती ने बाहर से समर्थन दिया था। आखिर मायावती के बदलते तेवरों का राज क्या है?

मध्य प्रदेश और राजस्थान में 2018 के विधानसभा चुनावों से ही कांग्रेस और बीएसपी के रिश्ते बिगड़ गए थे। कांग्रेस ने बीएसपी के साथ गठबंधन का मामला आखिरी तक लटकाए रखा और आखिर में अकेले ही चुनाव लड़ा। उधर हाल के दिनों में मायावती ने कई अहम मुद्दों पर विपक्ष से दूरी बनाकर रखी और केंद्र की मोदी सरकार को समर्थन दिया। चीन के साथ गलवान घाटी में खूनी संघर्ष के बाद कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमलावर तेवर दिखाए। मायावती इस दौरान लगातार कांग्रेस के खिलाफ मुखर रहीं। खास तौर से राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत पर अपने विधायकों की चोरी का आरोप लगाया। यही नहीं माया ने राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग भी की।

पढ़ें:

सितंबर 2019 में बीएसपी के छह विधायकों ने पाला बदल दिया था। राजस्थान में बीएसपी ने अपने विधायकों को विप जारी किया है। हालांकि इस बात के आसार कम ही हैं कि बागी विधायक विप का पालन करेंगे। इस सिलसिले में पार्टी के फैसले का जिक्र करते हुए मायावती ने कहा, ‘चोरी का सामान चोरी होने पर शोर मचा रहे हैं। राजस्थान में बीएसपी के खिलाफ साजिश रची गई, जिसमें गहलोत शामिल थे। अगर विधायकों ने हमारे निर्देशों का पालन नहीं किया तो हम उनको अयोग्य घोषित करने के लिए मामले को सुप्रीम कोर्ट लेकर जाएंगे।’

पढ़ें:

सचिन पायलट की बगावत का जिक्र करते हुए मायावती ने कांग्रेस को असली चोर कहा और पूछा कि पार्टी हाईकमान इस बारे में चुप्पी क्यों साधे है। मायावती ने कहा, ‘कांग्रेस की बार-बार धोखेबाजी के बाद बीएसपी ने गहलोत सरकार के खिलाफ जाने का फैसला लिया है। उनकी सरकार बनी रहती है या जाती है यह सीधे तौर पर कांग्रेस की गलती होगी।’

मायावती ने इस दौरान अप्रत्यक्ष रूप से बीजेपी की मदद करने को लेकर हो रही आलोचना का भी जवाब दिया। बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि एक राष्ट्रीय पार्टी के रूप में बीएसपी किसी भी पार्टी के साथ जाती है, भले ही वह बीजेपी हो तो यह पार्टी और दलित आंदोलन के हित के लिए किया गया है।

उत्तर प्रदेश और लखनऊ की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *