उमाकांत शुक्ला का खुलासा- 5 सिपाहियों के शव को शौचालय में जलाने जा रहा था विकास दुबे, लेकिन…

[ad_1]

उमाकांत शुक्ला का खुलासा- 5 सिपाहियों के शव को शौचालय में जलाने जा रहा था विकास दुबे, लेकिन...

थाने में सरेडर करने पहुंचा विकास दुबे का साथी उमाकांत शुक्ला

सरेंडर करने पहुंचे उमाकांत शुक्ला ने पूछताछ में बताया कि कैसे उस रात पांच सिपाहियों के शव शौचालय में पहुंचाए गए थे और विकास दुबे ने उन्हें जलाने की पूरी तैयारी कर ली थी.

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर हत्याकांड (Kanpur Shootout) का एक और आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गया है. 8 पुलिसकर्मियों की जघन्य हत्या को अंजाम देने वाले विकास दुबे (Vikas Dubey) का साथी उमाकांत शुक्ला (Umakant Shukla) शनिवार को अपनी पत्नी और बेटी के साथ खुद चौबेपुर थाने पहुंचा और पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया. इस दौरान उमाकांत शुक्ला ने गले में तख्ती लटकाई थी. जिसमें खुद के विकास दुबे का साथी होने और कानपुर कांड के बाद आत्मग्लानि की बात कही गई. उमाकांत शुक्ला ने पुलिस से रहम की गुहार लगाते हुए कहा कि मैं सरेंडर करने आया हूं.

जिसके बाद उसे पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पूछताछ में उमाकांत ने बताया कि कैसे उस रात पांच सिपाहियों के शव शौचालय में पहुंचाए गए थे और विकास दुबे ने उन्हें जलाने की पूरी तैयारी कर ली थी. वहीं उमाकांत ने पुलिस को कुछ असलहों के बारे में भी जानकारी दी जिसकी बरामदगी के लिए पुलिस ने जांच अभियान शुरू कर दिया है.

सिपाहियों को ढूंढ-ढूंढकर मारा गया

पूछताछ में उमाकांत ने बताया कि बिकरू गांव में उसका घर उस शौचालय के सामने है जहां पर पांच सिपाहियों के शव रखे गए थे. उमाकांत ने बताया कि वह प्रवीण नाम के युवक की छत पर बंदूक के तैनात था. उसने बाते कि उस रात सिपाहियों को ढूंढ-ढूंढकर मारा गया था. उसके बाद उनके शवों को ले जाकर शौचालय में एक के ऊपर एक रखा गया था. ताकि उन्हें जलाया जा सके. इसके लिए विकास दुबे ने मिट्टी के तेल का पीपा मंगा लिया था. वह सिपाहियों के शव को जला देना चाहता था. लेकिन वहां मौजूद कुछ साथियों ने उसे रोक लिया.हमें बहुत आत्मग्लानि है

बता दें कि पुलिस स्टेशन पहुंच कर उमाकांत शुक्ला ने पुलिस से कहा मेरा नाम उमाकांत शुक्ला उर्फ गुड्डन है. कानपुर कांड में मैं विकास दुबे के साथ शामिल था. मुझे पकड़ने के लिए रोज पुलिस छापेमारी कर रही है, जिससे मैं बहुत डरा हुआ हूं. हम लोगों द्वारा जो घटना की गई थी, उसकी हमें बहुत आत्मग्लानि है. मैं खुद पुलिस के सामने हाजिर हो रहा हूं. मेरी जान की रक्षा की जाए, मुझ पर रहम किया जाए.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *