इमरान खान के नक्शे पर बीजेपी ने पूछा भारत में विपक्ष चुप क्यों

[ad_1]

पटना
बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कांग्रेस और उनके नेता राहुल गांधी पर पाकिस्तान को लेकर आक्रमण किया है। पाकिस्तान की ओर से जारी नक्शे में भारत के कई हिस्से को दिखाए जाने पर कांग्रेस की ओर से एक भी बयान नहीं आने पर सुशील मोदी ने आक्रमण किया है। राहुल गांधी बिहार के कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ वर्चुअल रैली के दौरान सुशील मोदी ने इस मसले पर कई ट्वीट किए।

सुशील मोदी ने लिखा कि पाकिस्तान ने पहली बार ऐसा नक्शा जारी कर भारत में धारा-370 की समाप्ति और राम मंदिर के लिए भूमिपूजन जैसे दो बड़े आंतरिक मामलों में अपनी हदें पार कीं। जूनागढ़ की कोई सीमा पाकिस्तान से नहीं मिलती और भारत में इस रियासत के विलय का मामला आजादी के तुरंत बाद हल कर लिया गया था।

‘जूनागढ़ जनमत संग्रह में पाक को मिले थे 90 वोट’
वहां जनमत संग्रह में केवल 90 लोगों ने पाकिस्तान में विलय का समर्थन किया था। जनमत संग्रह में करारी हार के बाद जूनागढ़ का नवाब पाकिस्तान भाग गया था। जूनागढ़ से इमरान खान की चिढ़ इसलिए है कि वहां सोमनाथ का मंदिर है और भारत में इसके विधिवत विलय के समय तत्कालीन गृहमंत्री सरदार पटेल ने सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण की घोषणा की थी।

‘नेहरू के विरोध के बाद सोमनाथ के अनुष्ठान में गए राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद’
सुशील मोदी ने आगे लिखा कि नेहरू के विरोध के बावजूद सोमनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण हुआ और भारतरत्न डॉ. राजेद्र प्रसाद उसके प्राण-प्रतिष्ठान अनुष्ठान में सम्मिलित हुए। जूनागढ़ के उसी सोमनाथ मंदिर से माननीय लालकृष्ण आडवाणी ने 1990 में राम रथयात्रा प्रारम्भ की थी, जिसकी सफलता अब भव्य राम मंदिर के रूप में साकार होने वाली।

‘पाक के नक्शे पर आरजेडी, कांग्रेस का एक ट्वीट भी नहीं’
विडम्बना यह कि कांग्रेस, आरजेडी और वामदल सहित किसी विरोधी दल ने पाकिस्तानी नक्शे के विरोध में ट्वीट तक नहीं किया, जबकि पाकिस्तान का पूरा विपक्ष इमरान सरकार के साथ खड़ा हुआ। क्या भारत के विपक्षी दलों के ऐसे रवैये पर उनकी देशभक्ति पर सवाल नहीं उठने चाहिए?

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में धारा 370 समाप्त करने का जो ऐतिहासिक फैसला लिया, उसके एक साल पूरे होने पर कोरोना और कर्फ्यू के बावजूद जम्मू से लद्दाख तक लोगों ने खुशी मनायी।

‘तो क्या पाकिस्तान से चुनाव में उतरेंगे राहुल’
दूसरी ओर इससे एक दिन पहले पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और गुजरात के जूनागढ़ को अपना बताने वाला आपत्तिजनक नक्शा जारी कर अपनी बौखलाहट का इजहार किया। राहुल गांधी ने धारा-370 और 35A को हटाने का संसद से सड़क तक विरोध कर पाकिस्तान की कूटनीतिक मदद की और अब पाकिस्तान की खुशी के लिए उसकी नक्शा-शरारत पर खामोशी ओढ़ ली। मुसलिम-बहुल वायनाड से सांसद बने राहुल क्या अब पाकिस्तान में सियासी ठौर तलाशेंगे?

बिहार चुनाव में राष्ट्रवाद के मुद्दे को गरमाना चाहती है बीजेपी?कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच राहुल गांधी की वर्चुअल बैठक के बीच सुशील कुमार मोदी के इस बयान से समझा जा सकता है कि बीजेपी लोकसभा चुनाव की तरह बिहार विधानसभा चुनाव में भी राष्ट्रवाद के मुद्दे पर विपक्ष को घेरना चाहती है। जानकार मानते हैं कि कोरोना, बाढ़, खराब स्वास्थ्य व्यवस्था, अपराध कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिनपर नीतीश सरकार की खामियां सामने आ चुकी है। विपक्ष इन्हीं मुद्दों पर नीतीश सरकार पर आक्रामक है। ऐसे में राष्ट्रवाद जिसमें खासकर पाकिस्तान ही एक ऐसा मुद्दा है जिसकी बदौलत चुनाव के परिदृष्य को बदला जा सकता है। खासकर ऐसे माहौल में जब मुस्लिम वोटर विपक्ष की ताकत हो।

2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में बीजेपी ने कश्मीर, पाकिस्तान, राष्ट्रवाद जैसे मुद्दों को खूब हवा दी थी, जिसके परिणाम स्वरूप एनडीए को 40 में से 39 सीटों पर जीत मिली थी।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *