आतंकवाद मुक्त कश्मीर! 2020 में अबतक 26 टॉप आतंकी कमांडरों को किया गया ढेर

[ad_1]

गोविंद चौहान, श्रीनगर
कश्मीर में आतंकवाद की कमर टूट चुकी है। इस वर्ष (2020) सुरक्षाबलों ने कश्मीर के अलग-अलग जिलों में अभीतक 26 आतंकी टॉप कमांडरों को मौत के घाट उतारा है। ये आतंकी सुरक्षाबलों पर हमला करने के अलावा युवाओं को आतंकवाद के रास्ते पर लाने का काम कर रहे थे। इनके सहारे ही कश्मीर में आतंकवाद चल रहा था। पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि बचे हुए कमांडरों को भी जल्द ही मार गिराकर आतंकवाद को कश्मीर से मुक्त करा दिया जाएगा।

अभी तक अगस्त माह में सुरक्षाबलों ने कश्मीर के अधिकतर जिलों से कमांडरों का सफाया कर दिया है। तीन दिनों में कश्मीर में दो मुठभेड हुई हैं, जिसमें लश्कर के चार कमांडरों को मार गिराया गया है। नॉर्थ कश्मीर में लश्कर के तीन ग्रुप काम कर रहे थे। इनमें एक ग्रुप को नासिर चला रहा था तो दूसरे ग्रुप को सज्जाद उर्फ हैदर चला रहा था। दोनों का सफाया कर दिया गया है। एक को हंदवाड़ा में मारा गया तो दूसरे को बारामूला जिले में मार गिराया गया है। अब नॉर्थ कश्मीर में एक कमांडर बचा हुआ है। इस तरह से कश्मीर के अलग-अलग इलाकों में आतंकी कमांडरों को मार दिया गया है। इसी साल सुरक्षाबलों ने 12 अगस्त को पुलवामा में हिज्बुल के कमांडर आजाद ललहारी को मार गिराया था। उससे पहले लश्कर के रशीद को श्रीनगर के बाहरी इलाके में मारा गया था।

रखा गया है यह टार्गेट
इसी तरह से इस साल रियाज नायकू, लश्कर के कमांडर हैदर, जैश के कारी यासिर और बुरहान, कोका को अलग-अलग मुठभेड़ में मार गिराया गया है। इससे आतंकियों की कमर कश्मीर में टूट चुकी है। इस साल टार्गेट रखा गया है कि कश्मीर के कई इलाकों को आतंकमुक्त बना दिया जाएगा।

नॉर्थ कश्मीर में बड़े हमले का प्लान
एजेंसियों को पता चला है कि आतंकियों की तरफ से नॉर्थ कश्मीर में ‘डे अटैक’ का प्लान बनाया जा रहा था। लश्कर के कमांडर सज्जाद हैदर के मारे जाने के बाद नासिर नॉर्थ कश्मीर में बड़ा हमला करने की फिराक में था। उसके लिए उसने ग्रुप को तैयार कर लिया था लेकिन वह मारा गया है। अपने इतने कमांडरों का नुकसान होने के बाद आतंकियों की तरफ से बड़ा हमला करने के इनपुट आ रहे हैं। हालांकि, सुरक्षाबलों ने अपने सूचना नेटवर्क को मजबूत रखा हुआ है। जहां से भी आतंकियों के छिपे होने की सूचना आ रही है वहां पर तुंरत मुठभेड़ की जा रही है ताकि आतंकियों को हमला करने का मौका ना मिल सके।

‘…ताकि आतंकवाद का हो सके सफाया’
पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह का कहना है कि इस साल कमांडरों को मार गिराने में सुरक्षाबलों को सफलता मिली है। सुरक्षाबलों के पास जो इनपुट आ रहे हैं उसी हिसाब से ऑपरेशनों को जारी रखा जा रहा है ताकि कश्मीर में आतंकवाद का सफाया किया जा सके।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *