आजमगढ़ कांड पर मायावती ने जताया दुख, Tweet कर पूछा- सपा और बीजेपी सरकार में क्या अंतर रह गया?

[ad_1]

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ (Azamgarh) में तरवां थाना क्षेत्र के बांसगांव के दलित ग्राम प्रधान की शुक्रवार की देर शाम गोली मारकर हत्या (Murder) कर दी गई. इसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने जमकर उपद्रव किया. इस दौरान ग्रामीणों ने पथराव, पुलिस चौकी में तोड़फोड़ और वाहनों को आग के हवाले कर दिया. मौके पर भगदड़ की स्थिति बन गई, जिसमें वहां उपस्थित एक किशोर की भीड़ में दबने से मौत हो गई. इसके बाद हंगामा और भी उग्र हो गया. मौके पर स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. उधर घटना पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने दुख जताया है. उन्होंने यूपी सरकार को घेरते हुए पूछा है कि इस तरह की घटनाओं से पूर्व की सपा सरकार और वर्तमान की बीजेपी सरकार में क्या अंतर रह गया है?

बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट किया है, “आजमगढ़ के बांसगांव में दलित प्रधान सत्यमेव जयते पप्पू की स्वतंत्रता दिवस की पूर्वसंध्या में नृशंस हत्या व 1 अन्य की कुचलकर मौत की खबर अति-दुःखद. यूपी में दलितों पर इस प्रकार की हो रही जुल्म-ज्यादती व हत्या आदि से पूर्व की सपा व बीजेपी की वर्तमान सरकार में फिर क्या अन्तर रह गया है?”

सीएम योगी ने लिया घटना का संज्ञान बता दें खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने आजमगढ़ कांड का संज्ञान लिया है. उन्होंने शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना की है. सीएम ने अनुसूचित जाति/जनजाति एक्ट के तहत दी जाने वाली सहायता राशि के अलावा मुख्यमंत्री सहायता कोष से 5-5 लाख रुपए की अतिरिक्त धनराशि पीड़ितों के परिजनों को दिए जाने की घोषणा की है. उन्होंने सम्बन्धित थानाध्यक्ष और चौकी इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से निलम्बित करने के भी निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें: आजमगढ़ कांड: CM योगी ने किया मुआवजे का ऐलान, दोषियों पर गैंगस्टर, NSA के साथ संपत्ति जब्त करने का आदेश

अपराधियों की संपत्ति होगी जब्त

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने अपराधियों के विरुद्ध गैंग्स्टर एक्ट के तहत कार्यवाही कर उनकी सम्पत्ति जब्त करने और एनएसए लगाने के निर्देश दिए हैं. साथ ही, इस तरह की घटना के लिए जिले के अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

ये है पूरा मामला

तरवां थाना क्षेत्र के बांस गांव (Bans Village) के ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते (Satyameva Jayate) उर्फ पप्पू राम शुक्रवार को गांव के बाहर स्थित एक निजी स्कूल के पास से जा रहे थे. इसी दौरान गांव के ही विवेक सिंह और सूर्यांश दुबे, जो उसके दोस्त हैं, उसे दावत के बहाने अपने साथ ट्यूबेल पर ले गए. यहां किसी बात को लेकर कहासुनी हुई और दोनों ने ग्राम प्रधान को गोली मारकर उनकी हत्या कर दी.

ये भी पढ़ें: आजमगढ़ कांड में अपराधियों का दुस्साहस, ग्राम प्रधान को मारी गोली फिर घर जाकर दी सूचना

बदमाशों का दुस्साहस

हत्या के बाद बदमाशों ने दुस्साहस का परिचय देते हुए इसकी जानकारी खुद ग्राम प्रधान के घरवाले को दी और फरार हो गए. ग्राम प्रधान की हत्या की जानकारी के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए. उन्होने सड़क जामकर प्रदर्शन किया. तोड़फोड़ के साथ कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *