अयोध्या में साधु ने नाबालिग लड़के से किया रेप का प्रयास, विरोध करने पर काटा प्राइवेट पार्ट

[ad_1]

अयोध्या में साधु ने नाबालिग लड़के से किया रेप का प्रयास, विरोध करने पर काटा प्राइवेट पार्ट

किशोर ने साधु द्वारा दुष्कर्म के प्रयास का विरोध किया तो उसने गुस्से में आकर उसका प्राइवेट पार्टी काट दिया (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आरोपी रामसेवक दास 14 वर्षीय किशोर को बहला-फुसलाकर अपने आश्रम पर ले गया था. यहां उसने उसके साथ गलत काम (Rape) करने का प्रयास किया. लेकिन किशोर ने इसका विरोध किया तो कामान्ध साधु ने किशोर का प्राइवेट पार्ट (Private Part) काटने का प्रयास किया

अयोध्या. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अयोध्या (Ayodhya) में इंसानियत को शर्मसार करने का एक मामला सामने आया है. यहां एक साधु ने 14 साल के किशोर के साथ अप्राकृतिक संबंध (Unnatural Sex) बनाने में नाकाम रहने पर उसका गुप्तांग (प्राइवेट पार्ट) काटने का प्रयास किया है. हालांकि पीड़ित ने किसी तरह भाग कर अपनी जान बचाई.  उसने अपने स्थानीय संरक्षक (लोकल गार्जियन) को आपबीती बताई जिसके बाद उन्होंने पुलिस में इसकी शिकायत कराई. पुलिस ने आरोपी साधु रामसेवक दास के खिलाफ संबंधित मामले में केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है.

मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी रामसेवक दास किशोर को बहला-फुसलाकर अपने आश्रम पर ले गया था, और यहां उसने उसके साथ गलत काम करने का प्रयास किया. किशोर के विरोध करने पर कामान्ध साधु ने किशोर के प्राइवेट पार्ट को काटने का प्रयास किया. लेकिन घायल अवस्था में पीड़ित लड़का वहां से भाग निकला और उसने अपने स्थानीय संरक्षक को इसकी सूचना दी. बाद में स्थानीय संरक्षक की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी साधु के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस अब उसे जेल भेजने की कार्रवाई कर रही है.

दरअसल अयोध्या में तमाम ऐसे मठ और मंदिर है जहां रहकर वेद पाठी बालक संस्कृत की शिक्षा ग्रहण करते हैं, और खाली समय में मंदिर में भगवान की सेवा करते हैं. पीड़ित किशोर भी अयोध्या के एक मंदिर में रह कर संस्कृत की शिक्षा ग्रहण कर रहा था. घटना वाले दिन वो भगवान के लिए सरयू नदी से जल लाने गया था. इस दौरान रामसेवक दास नाम का एक साधु उसे मिला था. साधु किशोर को अपनी बातों में बहला-फुसलाकर कर अपने साथ ले गया और मौका देख उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया था.



[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *