अनुच्छेद 370: फारूक अब्दुल्ला के घर पर होनी थी बैठक, नहीं मिल पाए कश्मीरी नेता

[ad_1]

NBT

गोविंद चौहान, श्रीनगर

नैशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने बुधवार को श्रीनगर में अपने आवास पर एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई थी। जिसमें कई मुख्यधारा के राजनीतिक दलों के नेतृत्व को आमंत्रित किया गया था, हालांकि इस बैठक को नहीं होने दिया गया। सुबह से ही श्रीनगर में प्रशासन की तरफ से सख्ती की गई थी। जिसके बाद फारूक के घर की तरफ जाने वाली रोड को भी बंद कर दिया गया। ताकि कोई भी नेता इस बैठक के लिए ना पहुंच सके।

इसके बाद अब उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा कि बीजेपी 15 अगस्त को आज के ही दिन मनाने के कार्यक्रम कर रही है और हमें नेताओं से मिलने भी नहीं दिया जा रहा है। उनका कहना था उनके पिता की तरफ से बैठक बुलाई गई थी। जिसे नहीं होने दिया गया है।

दरअसल बीते साल 5 अगस्त को ही अनुच्छेद 370 हटाने संबंधी बिल को संसद में पेश किया गया था। जम्मू-कश्मीर में उसके बाद पैदा हुए राजनीतिक हालात पर विचार-विमर्श करने के लिए फारूक अब्दुल्ला ने अपने निवास पर एक साथ मिलने के लिए नेताओं की बैठक बुलाई थी। जिसमें कई दलों के नेताओं को बुलाया गया था। इसमें नैशनल कॉन्फ्रेंस, पीपल्स कॉन्फ्रेंस, पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी), कांग्रेस, अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस (एएनसी), सीपीआई (एम), पीडीएफ और पूर्व नौकरशाह डॉ. शाह फैसल की अध्यक्षता वाली जेएंडके पीपल्स मूवमेंट सहित कई राजनीतिक दल बैठक में भाग लेने वाले थे।

हालाकि अधिकारियों ने पुलिस और अन्य अर्धसैनिक बलों के जवानों को धारा 370 और 35 (ए) के हटने के एक वर्ष पूरा होने से पहले राजनीतिक नेताओं के आवासों के आसपास तैनात रात को ही कर दिया था। सुबह होते ही पूरे कश्मीर में बेरिकैड लगा दिए गए थे। प्रशासन की तरफ से इस बैठक को देखते हुए गुपकार रोड को बंद कर दिया गया। इस रोड पर किसी को आने की इजाजत नहीं दी गई। क्योंकि प्रशासन इस शांति के माहौल में कोई गड़बड़ी नहीं चाहता है। इसलिए एहतियात के तौर पर बैठक को नहीं होने दिया गया।

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *