अंडमान में समुद्र के भीतर केबल का उद्घाटन, पीएम मोदी ने कहा- दिल्ली और दिल से दूरियों को पाटने का काम

[ad_1]

Submarine Optical Fibre Cable in Andman: पीएम नरेंद्र मोदी ने आज अंडमान को समुद्र के भीतर बिछाए गए केबल लिंक का तोहफा दिया है। उन्होंने कहा कि इससे अब इस राज्य में कनेक्टिविटी बढ़ेगी और रोजगार और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

Edited By Satyakam Abhishek | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

पीएम मोदीपीएम मोदी

नई दिल्ली

पीएम नरेंद्र मोदी ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह में समुद्र के भीतर केबल लिंक को राज्य के नागरिकों को समर्पित किया। पीएम ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस के पहले अंडमान के लोगों के लिए यह स्नेहभरा अवसर है। पीएम ने कहा कि यह उपलब्धि दिल्ली और दिल से दूरियों को पाटने वाला है। उन्होंने कहा कि समय से पहले इस योजना को पूरी करना एक प्रशंसनीय उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि यह योजना आसान नहीं थी, इसके लिए समुंदर की लहरों से लेकर तमाम रुकावटों का सामना करना पड़ा।

समय से पहले मुश्किल काम पूरा करना प्रशंसनीय-मोदी

पीएम ने कहा कि समुद्र के भीतर करीब 2,300 किलोमीटर तक केबल बिछाने का ये काम आसान नहीं था और समय से पूर्व इसे पूरा करना तो और प्रशंसनीय है। उन्होंने कहा, ‘गहरे समुद्र में सर्वे करना, केबल की क्वालिटी को बरकरार रखना और विशेष जहाजों के जरिए केबल बिछाने का काम इतना आसान नहीं था।’

टोटल 400 Gbps की स्‍पीड देगी यह केबल

  • टोटल 400 Gbps की स्‍पीड देगी यह केबल

    यह केबल लिंक चेन्‍नई और पोर्ट ब्‍लेयर के बीच 2×200 गीगाबिट पर सेकेंड (Gbps) की बैंडविड्थ देगा। पोर्ट ब्‍लेयर और बाकी आइलैंड्स के बीच बैंडविड्थ 2×100 Gbps रहेगी।

  • कुछ सेकेंड्स में 40 हजार गाने डाउनलोड

    इन केबल्‍स के जरिए अधिकतम 400 Gbps की स्‍पीड मिलेगी। यानी अगर आप 4K में दो घंटे की मूवी डाउनलोड करना चाहें जो करीब 160 GB की होगी तो उसमें बमुश्किल 3-4 सेकेंड्स लगेंगे। इतने में ही 40 हजार गाने डाउनलोड किए जा सकते हैं।

  • प्रधानमंत्री ने तीन साल पहले डाली थी नींव और अब हुआ उद्घाटन
  • ऐसे शुरू होता है केबल बिछाने का काम

    समुद्र में केबल बिछाने के लिए खास तरह के जहाजों का इस्‍तेमाल किया जाता है। ये जहाज अपने साथ 2,000 किलोमीटर लंबी केबल तक ले जा सकते हैं। जहां से केबल बिछाने की शुरुआत होती है, वहां से एक हल जैसे उपकरण का यूज करते हैं जो जहाज के साथ-साथ चलता है।

  • पहले केबल के लिए बनाई जाती है जगह

    समुद्र में एक खास उपकरण के जरिए फ्लोर पर केबल के लिए जमीन तैयार की जाती है। इसे समुद्रतल पर जहाज के जरिए मॉनिटर करते हैं। इसी से केबल जुड़ी होती हैं। साथ-साथ केबल बिछाई जाती रहती है।

  • फिर डाला जाता है रिपीटर

    टेलिकॉम केबल्‍स बिछाने के दौरान रिपीटर का यूज होता है जिससे सिग्‍नल स्‍ट्रेंथ बढ़ जाती है।

  • केबल क्रॉसिंग के लिए खास व्‍यवस्‍था

    अगर दो केबल्‍स को आपस में क्रॉस कराना है तो उसके लिए फिर से वही प्रक्रिया अपनाई जाती है जो दूसरे स्‍टेप में अपनाई गई थी।

  • फिर केबल के एंड को करते हैं कनेक्‍ट

    जहां केबल को खत्‍म होना होता है, वहां सी फ्लोर से केबल को उठाकर ऊपर लाते हैं।

  • एक बार फिर होती है चेकिंग

    आखिर में रिमोटली ऑपरेटेड अंडरवाटर व्‍हीकल (ROV) के जरिए पूरे केबल लिंक का इंस्‍पेक्‍शन किया जाता है कि कहीं कोई चूक तो नहीं हुई।

  • केबल की सुरक्षा के लिए आखिरी स्‍टेप

    सबसे आखिर में केबल शिप के जरिए यह चेक किया जाता है कि केबल सी-बेड यानी समुद्र की सतह पर ठीक से बिछी है या नहीं। चूंकि समुद्र की सतह भी पहाड़ और खाइयां होती हैं इसलिए यह चेक करना बहुत जरूरी है वर्ना दबाव बढ़ने पर केबल टूट भी सकती है।

विराट थी चुनौतियां, यूं पाया पार

पीएम मोदी ने कहा कि जितना बड़ा ये प्रोजेक्ट था रुकावटें भी उतनी ही बड़ी थीं। उन्होंने कहा, ‘केबल बिछाने में कई दुरुह चुनौतियों का सामना करना पड़ा। समुद्र की लहरें, तूफान और मानसून की रुकावट को दरकिनार करते हुए इस काम को पूरा किया गया।’ पीएम ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण भी बहुत सी चीजें प्रभावित हुईं पर वो भी इस काम को पूरा होने से नहीं रोक पाईं।



दिल्ली और दिल से दूरियां को पाटा जाए


पीएम ने कहा कि देश के इतिहास, वर्तमान और भविष्य के लिए अंडमान के परिश्रमी नागरिकों को आधुनिक टेलिकाम कनेक्टिविटी देना देश का दायित्व था। आज एक पुराना और अहम सपना साकार हुआ है। मैं इस प्रोजेक्ट से जुड़े हर साथी को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। पीएम ने कहा, ‘हमारा समर्पण रहा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े सीमा और समुद्री सीमा का तेजी से विकास हो। हमारा समर्पण रहा है कि देश के हर जन तक, हर क्षेत्र तक आधुनिक सुविधाएं पहुंचें और दिल्ली से और दिल दोनों से दूरियां को पाटा जाए।

अंडमान को होगा बड़ा फायदा

पीएम ने कहा कि इस योजना को अंडमान को काफी फायदा होगा। मोबाइल और इंटरनेट सस्ती और तेज स्पीड के साथ मिलेगी। जिसके लिए आज भारत पूरी दुनिया में अग्रणी है। डिजिटल इंडियो को वो सभी लाभ मिल पाएंगे जो बाकी देश को मिलते हैं। यहां आने वाले पर्यटकों को भी काफी लाभ होगा। अंडमान में जो योजना वर्षों पूरी नहीं हो पाते थे अब वह जल्दी से हो रहे हैं।’

Web Title the submarine optical fibre cable in andman and prime minister narendra modi speech all updates(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

[ad_2]

Source link

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *